करवा चौथ व्रत में भूख प्यास से बचने के उपाय

0
4

19 अक्टूबर करवाचौथ-विशेष    

 रेणु शर्मा,जयपुर       

करवा चौथ का व्रत कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है , अपने पति की लंबी उम्र की कामना में सुहागिनें हर साल करवाचौथ का व्रत रखती हैं। व्रत के दौरान सूर्योदय से चाँद निकलने तक बिना खाए रहना होता है , सूर्यास्त के बाद चाँद निकलने तक पानी भी नही पी सकते , जिससे कमजोरी आ जाती है लेकिन आपको परेशान होने की जरूरत नही है हम भूख-प्यास से बचने के उपाय बता रहे है जिससे आपको व्रत मैं भूख प्यास नही लगेगा और आपका एनर्जी लेवल बना रहेगा।

जब आप रात में व्रत खोलती हैं तो ऑयली और स्पाइसी खाना न खाएं। दरअसल, पूरे दिन आपका पेट खाली होता है और ऐसे में ऑयली या स्पाइसी खाने से पेट में गैस एसिडिटी इत्यादि हो सकती है। इसलिए कोशिश करें कि हल्का, प्रोटीन और विटामिन युक्त खाना ही लें।

करवा चौथ व्रत में भूख प्यास से बचने के उपाय

  • सुबह सरगी में यदि ड्राई फ्रूट भी खाया जाये तो जल्दी भूख नहीं लगती, बादाम और अखरोट खाने से आपका एनर्जी लेवल बना रहेगा। इन्हें भिगो कर खाना ज्यादा अच्छा रहता है । इन्हें संतोषजनक मात्रा में रात को भिगो दें और सुबह के समय खूब चबा कर खा लें ।
  • गौंद कतीरा रात को इतनी मात्रा में भिगो दें कि सुबह तक वह फूल कर लगभग आधी या एक कटोरी तैयार हो जाये, उसे सुबह दूध या शरबत में डाल कर खायें पी लें, यह आपकी प्यास का स्टेमिना बढ़ा देगा, आपको दिन भर अंदरूनी ठंडक भी देगा और प्यास भी महसूस नहीं होगी ।
  • गाढ़ी हलकी ठंडी लस्सी कम मीठे में तैयार कर पीने से पेट में ठंडक और एनर्जी बनी रहती है और प्यास में कमी आती है, इसमें आप भीगे हुये ड्राई फ्रूट और गौंद कतीरा भी मिला सकती हैं ।
  • नमक और चीनी दोनों वस्तुयें डाल कर बनाई गई गाढ़ी शिकंजी भी हमें एनर्जी देती है और प्यास पर लगाम लगाती है ।
  • व्रत दौरान प्यास सताने की अवस्था में चेहरे को गले तक पानी से अच्छे से बार बार धोने से अवश्य ही राहत मिलती है । ऐसा कोई काम ना करें जिससे पसीना आये, पसीना शरीर में पानी के स्तर को कम करता है और प्यास लगती है ।
  • नहाने से भी शरीर को पानी की आपूर्ति होती है और प्यास नहीं लगती ।

उपरोक्त वर्णित सभी प्रकार के खान पान अपनी शारीरिक सेहत को ध्यान में रखते हुये ही करें ।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here