Breaking News
prev next

सीना 56 इंच पर दिल छोटा

गीतांजलि पोस्ट ……..( बाबूलाल नागा ,जयपुर) पिछले तीन सालों से भारत पर काले बादल मंडराते रहे हैं। साल 2014 में, भारत की जनता ने नरेंद्र मोदी को पूर्ण बहुमत के साथ केंद्र में भेजा था। साल 2017 आते-आते वह पूरी तरह हक्के-बक्के और उलझन में हैं। सरकार बनाने के बाद भाजपा एवं नरेंद्र मोदी अपने वायदे को पूरी तरह भूल गए हैं और भारत की संस्थाओं, प्रतीकों एवं भाईचारे पर लगातार आघात कर रहे हैं। तीन साल पहले देश की जनता ने मोदी को प्रचंड बहुमत दिया। ‘अच्छे दिन आने वाले हैं‘ जैसी मोहक मृगमरीचिका दिखाकर मोदी ने भारतीय राजनीति में इतिहास रच दिया था। यह नारा भारत देश में बहुत अधिक लोकप्रिय हुआ। इसी नारे की फेर में पड़कर आम आदमी ने मोदी सरकार से जरूरत से ज्यादा उम्मीदें लगा रखी थीं और अब चूंकि वे उम्मीदें पूरी नहीं हुईं इसीलिए आम आदमी में एक बैचेनी सी दिखाई दे रही है। आम आदमी अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहा है। उनके लिए अच्छे दिनों का नारा महज मजाक बन कर रह गया है। जनता को बड़ी आशा थी कि वह अच्छे दिनों का लुत्फ उठाएगी पर अच्छे दिनों की आस में तीन साल यूं ही निकल गए।

चुनाव से पहले 56 इंच का सीना ठोककर मोदी ने कहा था कि वो 100 दिनों के भीतर देश का 80 लाख करोड़ रुपए का काला धन वापस ले आएंगे और हर भारतीय के बैंक खाते में 15-20 लाख रुपए जमा करवाएंगे पर अब जगजाहिर हो चुका है कि यह उनका अब तक का सबसे बड़ा चुनावी जुमला था। अपनी असफलताओं को छिपाने के लिए सरकार केवल एक जुमलेबाज सरकार बन कर रह गई है। सरकार के पिछले तीन सालों के काम ने प्रमाणित कर दिया है कि सरकार केवल बड़े-बडे दावे और लुभावने वायदे ही करती है। सरकार इन तीन सालों में जमीनी स्तर पर कुछ खास उपलब्धियां नहीं दिखा पाई है। पिछले तीन साल में मोदी सरकार ने देश को क्या दिया और क्या नहीं दिया? इसका हिसाब-किताब सब अपने-अपने तरीकों से कर रहे हैं। हालांकि सरकार ने पिछले तीन साल के भीतर कई योजनाओं को अमलीजामा पहनाया लेकिन सरकार आम जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरने में नाकामयाब ही रही है। मोदी सरकार ने पलक झपकते ही सुशासन, विकास, महंगाई कम करने, भ्रष्टाचार के खात्मे, कालाधन वापस लाने, सबको साथ लेकर विकास करने, नौजवानोें को रोजगार दिलाने जैसे वायदे ताक पर रख दिए गए हैं। देश में नए रोजगाार अवसरों की गति बहुत धीमी है। फलतः मोदी सरकार के ‘‘मेक इन इंडीया‘‘, ‘‘स्टार्टअप इंडिया‘‘ और ‘‘स्टैंडअप इंडिया‘‘ जैसे कार्यक्रमों की गूंज धीमी पड़ रही है।

तीन सालों में देश में अराजकता और भ्रम पैदा हुआ है। आज देश में भय का माहौल बना हुआ है। गौरक्षा के नाम में कथित गौरक्षकों द्वारा निर्दोष गोपालकों की निर्मम तरह से हत्या की जा रही है। लव जिहाद, एंटी रोमियो स्क्वॉड, गौरक्षा, घर वापसी, राम मंदिर और हिंदू राष्ट्रवाद जैसे मुद्दे इन तीन सालों में सरकार के लिए रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य और अर्थव्यवस्था से ज्यादा अहम रहे हैं। ‘सर्जिकल स्ट्राइक‘ और ‘नोटबंदी‘ जैसे दो अति नाटकीय फैसले भी हुए जिनके विस्तृत और विश्वसनीय परिणाम अब तक जनता या मीडिया के सामने नहीं आए हैं। हालांकि इन दोनों का भावनात्मक लाभ मोदी सरकार को जरूर मिला है। इन तीन वर्षों में दलित और सामाजिक रूप से पीड़ित समुदायों पर हमले बढ़े हैं। लव जिहाद, घर वापसी, बीफ जैसे मुद्दों के साथ अल्पसंख्यक और मुस्लिम निशाने पर रहे हैं। भले ही आज मोदी सरकार तीन साल का जश्न मना रही हो लेकिन इस जश्न में शामिल होने के लिए गरीब, मध्यवर्ग, किसान और अल्पसंख्यकों के पास कोई वजह नहीं है।

 (लेखक बाबूलाल नागा  जयपुर से प्रकाशित पाक्षिक समाचार व फीचर सेवा विविधा फीचर्स के संपादक हैं)

(लेखक बाबूलाल नागा जयपुर से प्रकाशित पाक्षिक समाचार व फीचर सेवा विविधा फीचर्स के संपादक हैं)

It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *