Breaking News
prev next

ऐतिहासिक एवं धार्मिक स्थलः हर्ष पर्वत

harsh-parvt-1

GEETANJALI POST………….जानिए हमारी ऐतिहासिक धरोहर-23

डॉ.प्रभात कुमार सिंघल – लेखक एवं पत्रकार
शेखावाटी के हृदय स्थल सीकर नगर से 16 किमी दूर दक्षिण में हर्ष पर्वत स्थित है जो अरावली पर्वत श्रंृखला का भाग है। यह पौराणिक, ऐतिहासिक, धार्मिक व पुरातत्व की दृष्टि से प्रसिद्ध, सुरम्य एवं रमणीक प्राकृतिक स्थल है। हर्ष पर्वत की ऊंचाई समुद्र तल से लगभग 3100 फीट है जो राजस्थान के सर्वोच्च स्थान आबू पर्वत से कुछ की कम है। इस पर्वत का नाम हर्ष एक पौराणिक घटना के कारण पड़ा। उल्लेखनीय है कि दुर्दान्त राक्षसों ने स्वर्ग से इन्द्र व अन्य देवताओं का बाहर निकाल दिया था। भगवान शिव ने इस पर्वत पर इन राक्षसों का संहार किया था। इससे देवाताओं में अपार हर्ष हुआ और उन्होंने शंकर की आराधना व स्तुति की। इस प्रकार इस पहाड़ को हर्ष पर्वत एंव भगवान शंकर को हर्षनाथ कहा जाने लगा। एक पौराणिक दन्त कथा के अनुसार हर्ष की जीणमाता का भाई माना गया हैं।

हर्ष पर्वत पर भगवान शंकर का प्राचीन व प्रसिद्ध हर्षनाथ मंदिर पूर्वाभिमुख है तथा पर्वत के उत्तरी भाग के किनारे पर समतल भू-भाग पर स्थित हैं। हर्षनाथ मंदिर से एक महत्वपूर्ण शिलालेख प्राप्त हुआ था, जो अब सीकर के राजकुमार हरदयाल सिंह राजकीय संग्रहालय, में रखा हुआ हैं। काले पत्थर पर उर्त्कीण 1030 वि.सं. (973 ई.) के शिलालेख की भाषा संस्कृत और लिपी विकसित देवनागरी है। इसमें चौहान शासकों की वंशावली दी गई हैं। इसलिए चौहान वंश के राजनीतिक इतिहास की दृष्टि से यह बहुत महत्वपूर्ण हैं। इसमें हर्षगिरी, हर्षनगरी तथा हर्षनाथ का भी विवरण दिया गया हैं। यह बताता है कि हर्ष नगरी व हर्षनाथ मंदिर की स्थापना संवत् 1018 में चौहान राजा सिंहराज द्वारा की गई और मंदिर पूरा करने का कार्य संवत् 1030 में उसके उत्तराधिकारी राजा विग्रहराज द्वारा किया गया। इन मंदिरों के अवशेषों पर मिला एक शिलालेख बताता है कि यहां कुल 84 मंदिर थे। यहां स्थित सभी मंदिर खंडहर अवस्था में है, जो पहले गौरवपूर्ण रहें होंगे। कहा जाता है कि 1679 ई. में मुगल बादशाह औरंगजेब के निर्देशों पर सेनानायक खान जहान बहादुर द्वारा जानबुझकर इस क्षेत्र के मंदिरों को नष्ट व ध्वस्त किया गया था।

हर्षनाथ मंदिर को कई गांव जागीर के तौर पर प्रदान किये गये थे। इस मंदिर का ऊंचा शिखर सुदूर स्थानों व मार्गो से देखा जा सकता हैं। हर्ष का मुख्य मंदिर भगवान शंकर की पंचमुखी प्रतिमा वाला हैं। शिव वाहन नंदी की विशाल संगमरमरी प्रतिमा भी आकर्षक हैं। शिव मंदिर की मूर्तियां आश्चर्यजनक रूप से सुन्दर हैं। देवताओं व असुरों की प्रतिमाएं कला का उत्कृष्ट नमूना हैं। इनकी रचना शैली की सरलता, गढ़न की कुकुमारता व सुडौलता तथा अंग विन्यास और मुखाकृति का सौष्ठव दर्शनीय है। इन पत्थरों पर की गई कारीगरी यह बतलाती है कि उस समय के सिलावट कारीगर व शिल्पी अपनी कला को किस प्रकार सजीव बनाने में निपुण थे। मंदिर की दीवार व छतों पर की गई चित्रकारी दर्शनीय हैं। पुरातत्व विभाग द्वारा हर्ष पर्वत के सभी प्राचीन मंदिरो का संरक्षण प्राचीन संस्मारक एवं पुरावशेष स्थल अधिनियम 1985 के तहत किया जा रहा है।

hars-parvat-21935 ई. में सीनियर अंग्रेज ऑफिसर कैप्टन डब्लू वैब ने हर्ष पर्वत की कलाकृतियों को महामंदिर स्थित कोठी के संग्रहालय मंे रखवाया। इस मंदिर से प्राप्त विश्व प्रसिद्ध लिंगोद्भव शिल्प खण्ड राजकीय संग्रहालय, अजमेर में प्रदर्शित हैं। हर्ष की मूर्तियां जयपुर व लंदन के संग्रहलयों में भी भेजी गई हैं। अभी भी कलात्मक स्तम्भों, तोरण द्वारो व शिल्प खण्ड़ो के अवशेष शिव मंदिर के आस-पास बिखरे पड़े है। तत्कालीन राव राजा सीकर द्वारा हर्षनाथ मंदिर का प्रमुख शिलालेख एंव 252 प्रस्तर प्रतिमाएं भेट स्वरूप राजकुमार हरदयाल सिंह राजकीय संग्रहालय, सीकर को प्रदान किये गये जिन्हें इस म्यूजियम की हर्षनाथ कला दीर्घा में प्रदर्शित किया गया हैं। हर्षनाथ मंदिर से प्राप्त प्रमुख प्रतिमाओं में द्विबाहु नटेश शिव का शिल्पखण्ड, हरिहर-पितामाह-मार्तण्ड प्रतिमा, त्रिमुखी विष्णु प्रतिमा उल्लेखनीय हैं।
मुख्य शिव मंदिर की दक्षिण दिशा मंे भैरवनाथ का मंदिर हैं, जिसमें मां दुर्गा की सौलह भूजा वाली प्रतिमा है जिसकी प्रत्येक भूजा में विभिन्न शस्त्र है, एक हाथ में माला व दूसरे मंे पुस्तक हैं। इस मंदिर मर्दनी की खण्डित प्रतिमा एवं अर्द्वनारीश्वर रत्रधारी गणपति प्रतिमा भी हैं। मंदिर के मध्य गुफा जैसा तलघर भी है जिसमें काला भैंरव तथा गोरा भैरव की दो प्रतिमाएं हैं। नवरात्र और हर सोमवार व अवकाश के दिन यहां धार्मिक श्रद्धालुओं की भीड़ रहती है, मानो मेेला लगा हो। इसके अलावा पूरे सालभर जात-जडूले वाले श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता हैं।
हर्ष पर्वत पर पायी जाने वाली वृक्ष प्रजातियों में प्रमुख है- सालर, धोकडा, कडाया, चुरेल, बड़, पीपल, अमलतास, खिरणी, खैरी, कचनार, कंकेडा, रोंझ, खेजड़ी, देशी बबूल, पलास, विलायती/इजरायली बबूल आदि। झाड़ी प्रजातियों में थोर, झडबेर, डांसर व विलायती आक आदि मुख्य है। हर्ष पर्वत वनोषधियों का भण्डार हैं। यहां अरडूसा नाम पौधे प्रचुर मात्रा में खड़े है जिससे खांसी की दवा ग्लाइकाडिनटर्पवसाका बनती है। इसके अतिरिक्त बांस, व्रजदंती, गोखरू, लापता, शंखपुस्पी, नाहरकांटा, सफेद मूसली, आदि वनौषधियां भी यहां मिलती है।
यहां मांसाहारी जरख, भडिया, गीदड, लोमड़ी, सर्प, नेवला, बीजू आदि मिलते है। शाकाहारी वन्य जीवों में रोजड़ा, सेही, लंगूर, काले मुंह के बन्दर आदि यहां दिखते है। पक्षियांे में तीतर, बटेर, मोर, कबूतर, कोयल, चिडिया, मैना, तोता, वाईल्ड बेबलर, बगुला, बतख आदि पाये जाते हैं।

हर्ष की पहाड़ी पर जिला पुलिस सीकर के वीएचएफ संचार का रिपिटर केन्द्र सन् 1971 में स्थापित किया गया था जो 24 घण्टे 365 दिन कार्यरत रहता है। यहां पर पुलिस कर्मिया की तैनाती भी रहती हैं। उक्त केन्द्र द्वारा जिला पुलिस सीकर का जयपुर, अजमेर, नागौर, चुरू, झुन्झुनू व अलवर जिलों से निरंतर व सीधा सम्पर्क रहता है, जिससे जिले में किसी अपराध के घटित सभी पड़ौसी जिलों से तुरन्त सम्पर्क कर नाकाबंदी जैसी कार्रवाई की जा सकती है। सीकर जिले के अन्दर भी वीएचएफ रिपिटर केन्द्र से सभी थानों, चौकियों नाका बिन्दुओं तथा पुलिस मोबाइल्स का सम्पर्क बना रहता हैं।

हर्षा पर्वत पर विदेशी कम्पनी इनरकोन द्वारा पवन चक्कियां लगाई गयी है जिनके सैकड़ो फीट पंख वायु वेग से घूमते है तथा विद्युत का उत्पादन करते हैं। दूर से इन टावरो के पंखे घूमते बडे लुभावना लगते है। मैसर्स इनरकोन इंडिया लिमिटेड ने वर्ष 2004 में 7.2 मेगावाट पवन विद्युत परियोजना प्रारम्भ की। यहां पवन को ऊर्जा मं परिवर्तित करने वाले विशालकाय टावर लगे हुए हैं। यहां उत्पन्न होने वाली विद्युत ऊर्जा फिलहाल 132 के.वी.जी.एस.खूड को आपूर्ति की जाती हैं, जिसे विद्युत निगम आवश्यकतानुसार वितरित करता हैं।

हर्ष पर्वत पर वर्ष 1834 में सार्जेन्ट डीन नामक यात्री आये। उन्होंने कलकता मंे हर्ष पर्वत पर पत्र वाचन किया तो लोग दंग रह गये। हर्ष पर्वत पर आवागमन के लिये समाजसेवी स्वर्गीय बद्रीनारायण सोढाणी द्वारा अमेरिकी संस्था कासा की सहायता से सड़क निर्माण करवाकर वाहनों के लिये आवागमन का रास्ता खोला गया। हर्ष पर्वत पर जाने के एक पैदल रास्ते (पगडंडी) का निर्माण वर्ष 1050 मंे तत्कालीन राजा सिंहराज द्वारा करवाया गया था। समाजसेवी स्वर्गीय बद्रीनारायण सोढाणी द्वारा इस रास्ते का जीर्णोद्धार करवाकर खुर्रानुमा रास्ते का निर्माण करवाया गया। यह रास्ता करीब 2.25 किमी लम्बा हैं। जिसका वर्ष 2011 में जिला कलेक्टर, धर्मेन्द्र भटनागर द्वारा वन विभाग के सहयोग से पुनः जीर्णोद्धार कराया गया। हर्ष पर्वत का नियत्रंण एवं स्वामित्व वन विभाग का है। यहां वन विभाग का अतिथी गृह एवं प्रशिक्षण केन्द्र भी स्थापित हैं।

It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn





Related News

  • विश्व प्रसिद्ध सोनीजी की नसियां-चैत्यालय
  • श्री कृष्ण के वरदान से बर्बरीक पूजे जाते है शीशदानी श्याम नाम से
  • प्रतिदिन नाम लेने से मिट जाते है सात जन्मों के पाप
  • पर्दाप्रथा ने बनवा दिया हवा महल
  • उत्कृष्ठ शिल्प का नमूना है जगत का अम्बिका मंदिर
  • दुनिया का महत्वपूर्ण धार्मिक पर्यटक स्थल
  • ऐसा दुर्ग जहां वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की गूंजी थी किलकारियां
  • इकलौता मंदिर जहां दूध से अभिषेक होता है
  • 13 Comments to ऐतिहासिक एवं धार्मिक स्थलः हर्ष पर्वत

    1. Jamesdaf says:

      how to buy cialis in japan
      order cialis online
      best place buy generic cialis online
      <a href=http://tadal

    2. KevinCumma says:

      cialis cheapest price uk
      cialis for sale philippines
      discount generic cialis canada
      <a href=http://cialisemk

    3. where to buy real viagra cialis online
      best place to buy cialis online
      daily cialis discount
      <a href=http://

    4. LowellWeate says:

      cheap viagra new zealand
      generic viagra 100mg
      cheapest viagra buy cheap viagra
      <a href=http://sildenafil

    5. cheap viagra quick delivery
      cheap viagra
      buy viagra johannesburg
      <a href=http://viagraxyzonlinewww.

    6. ThomasJal says:

      online loans direct lenders bad credit
      fast cash loans with no credit check
      find private lenders now
      <a

    7. Douglaspluch says:

      no verification payday loans direct lenders
      bad credit personal loan
      bad credit personal loans pa

    8. Careyacica says:

      online roulette best sites
      best casino slot
      usa slot casinos that accept mastercard
      <a href=http://onl

    9. HaroldReals says:

      best line casinos
      us online wallets used for casinos
      play online slots game
      <a href=http://online-cas

    10. Thomasthype says:

      best online black jack
      online roulette casino australia
      online casinos for us players no downloads
      <

    11. JosephwaF says:

      casino jack and the united states of money streaming online
      online slots
      high roller gambliing profile

    12. DavidAbads says:

      how do i order viagra online
      order viagra online
      buy viagra through paypal
      <a href=http://sildenafilmns.

    13. Petershuct says:

      how to buy viagra forum
      cheap generic viagra
      compare prices cialis levitra viagra
      <a href=http://viagraqpd.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *