*भारतीय मसाले की शान तेज पत्ता औषधीय गुणों से भरपूर *

1158
169

गीतांजलि पोस्ट( श्रेयांस) लूनकरनसर :-

तेजपत्ते का इस्तेमाल ज्यादातर भारतीय पकवानों में किया जाता है। मसाले के तौर पर इस्तेामल होने वाली इन पत्तियों में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं। इनसे तेल भी निकाला जाता है। तेजपत्ते में भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट पाया जाता है। इसके अलावा इन पत्तियों में कई तरह के प्रमुख लवण जैसे कॉपर, पोटैशियम, कैल्शियम, मैंगनीज, सेलेनियम और आयरन पाया जाता है। हालांकि बहुत कम लोगों को ही पता होगा कि तेजपत्ता खाने का स्वाद और खुशबू बढ़ाने के साथ ही एक बेहद फायदेमंद मसाला भी है।

तेजपत्ते के फायदे

अगर आपको पाचन से जुड़ी समस्याएं हैं तो आप तेजपत्ते का इस्तेमाल कर सकते हैं। पेट से जुड़ी कई समस्याओं में यह कारगर उपाय है। चाय में तेजपत्ते का इस्तेमाल करके कब्ज, एसिडिटी और मरोड़ जैसी समस्याओं से राहत पा सकते हैं।

तेजपत्ते का इस्तेमाल टाइप 2 डायबिटीज में करना फायदेमंद होता है। यह ब्लड शुगर के लेवल को सामान्य बनाए रखता है और दिल की क्रियाशीलता पर भी सकरात्मक प्रभाव डालता है। ऐसे में जो लोग मधुमेह से पीडि़त हैं उनके लिए इसका सेवन करना बहुत ही फायदेमंद है।

रात को सोने से पहले तेजपत्ते का इस्तेमाल करना अच्छी नींद के लिए बहुत फायदेमंद है। तेजपत्ते के तेल की कुछ बूंदों को पानी में मिलाकर पीने से अच्छी नींद आती है।

किडनी स्टोन और किडनी से जुड़ी ज्यादातर समस्याओं के लिए तेजपत्ते का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद होता है। तेजपत्ते को उबालकर उस पानी को ठंडा करके पीने से किडनी स्टोन और किडनी से जुड़ी दूसरी समस्याओं में फायदा मिलता है।

दर्द में राहत के लिए भी तेजपत्ता एक कारगर उपाय है। तेजपत्ते के तेल से प्रभावित जगह पर मसाज करना बहुत फायदेमंद होता है।