Breaking News
prev next

माँ पृथ्वी है, जगत है, धूरी है…………

GEETANJALI POST (GEETA SHARMA – 27 JULY 2006)

maa-maa

माँ संवेदना है, भावना है, अहसास है
माँ जीवन के फूलों में, खूशबू का वास है
माँ रोते हुए बच्चे का, खुशनुमा पालना है
माँ मरूस्थल में नदी या मीठा-सा झरना है
माँ लोरी है, गीत है, प्यारी-सी थाप है
माँ पूजा की थाली है, मंत्रो का जाप है
माँ आँखो का सिसकता हुआ किनारा है
माँ ममता की धारा है, गालों पर पप्पी है,
माँ बच्चों के लिए जादू की झप्पी है
माँ झुलसते दिनों में, कोयल की बोली है
माँ मेंहँदी है, कुंकम है, सिंदूर है, रोली है
माँ त्याग है, तपस्या है, सेवा है
माँ फूंक से ठंडा किया कलेवा है
माँ कलम है, दवात है, स्याही है
माँ परमात्मा की स्वयं एक गवाही है
माँ अनुष्ठान है, साधना है, जीवन का हवन है
माँ जिंदगी के मोहल्ले में आत्मा का भवन है
माँ चूड़ीवाले हाथों के, मजबूत कंधो का नाम है
माँ काशी है, काबा है, और चारों धाम है||
माँ चिन्ता है, याद है, हिचकी है
माँ बच्चे की चोट पर सिसकी है
माँ चूल्हा, धुँआ, रोटी और हाथों का छाला है
माँ जीवन की कड़वाहट में अमृत का प्याला है
माँ पृथ्वी है, जगत है, धूरी है
माँ बिना इस सृष्टि की कल्पना अधूरी है
माँ का महत्व दुनिया में कम हो नहीं सकता
माँ जैसा दुनिया में कुछ हो नहीं सकता ।

मुकेश पारीक बिसाऊ

It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn





Related News

  • माँ पृथ्वी है, जगत है, धूरी है…………
  • हिन्दूओं के ‘रामदेव’ मुसलमानों के ‘रामसापीर’
  • सभी को मिलकर काम करने की जरूरत हैं, हर गरीब को सशक्त बनाना होगा-प्रणब मुखर्जी
  • बादलों ने की बरखण्डी धाम की ताजपोशी
  • फिक्स डिपोजिट की तरह है हाड़ौती
  • प्रधानाचार्य तेतरवाल की कड़ी मेहनत व लगन को देख भामाशाहों ने शैक्षित सुधार में बहाए लाखों
  • विशेष रिपोर्ट-बाल कटने व अचेत होने की घटना की
  • चमत्कारी बिल्वपत्र ! से जुड़ी खास बातें
  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *