अब हिमाचल में ‘इस’ फल से तैयार होगी बीयर

755
152

शिमला।  परवाणु में जल्द ही एप्पल साइडर (सेब की मदिरा) का कारखाना शुरू होगा। इस बीयर इंडस्ट्री में 1 अक्तूबर से सेब की बीयर का उत्पादन शुरू होगा। सेब की बीयर बनाने का जिम्मा नीदरलैंड की पी.एच.-4 कंपनी को दिया गया है। इसके लिए राज्य सरकार के उपक्रम एच.पी.एम.सी. ने उक्त कंपनी के साथ 5 साल का करार किया है। एप्पल साइडर इंडस्ट्री लगने से एच.पी.एम.सी. को सालाना 60 लाख रुपए की आय होगी। प्रदेश में किसी भी फल की बीयर तैयार करने वाला यह पहला कारखाना होगा। परवाणु स्थित प्लांट में उत्पादन शुरू करने की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। अनुबंधित कंपनी ने यहां पर मशीनरी लगा दी है। अब उद्घाटन का इंतजार है।

5 लाख से अधिक बागवानों को होगा लाभ
इस इंडस्ट्री के शुरू होने से सूबे के 5 लाख से अधिक बागवानों को लाभ होगा। एप्पल साइडर कारखाना लगने से सेब की मांग बढ़ेगी। मांग बढऩे से बागवानों को सेब के अच्छे दाम मिलेंगे। सूबे के बागवान भी समय-समय पर इस तरह के उद्योग लगाने की मांग करते रहे हैं। चूंकि प्रदेश में 7 लाख से अधिक बागवान 36 किस्मों के फल तैयार करते हैं। मैदानी इलाकों में मुख्यत: आम, नींबू, पपीता, अनार व अंगूर इत्यादि फल तैयार किए जाते हंै जबकि ऊंचे इलाकों में सेब, नाशपाती, चैरी, आड़ू व पलम जैसे फलों का उत्पादन होता है।

नगवाईं में ग्रेप वाइन इंडस्ट्री लगाने का लिया था फैसला
इससे पहले भी पूर्व की सरकार ने वर्ष 2001 में नगवाईं में अंगूर की शराब यानी ग्रेप वाइन इंडस्ट्री लगाने का फैसला लिया था। इसे लेकर एक निजी कंपनी के साथ करार भी किया गया। अंगूर उत्पादक बागवानों को लंबे समय तक सब्जबाग भी दिखाए जाते रहे लेकिन डेढ़ दशक से अधिक समय बीत जाने के बाद भी ग्रेप वाइन का कारखाना शुरू नहीं हो पाया, ऐसे में एप्पल साइडर इंडस्ट्री का शुरू होना बागवानों के लिए अच्छी खबर है। इस प्लांट के शुरू होने से एच.पी.एम.सी. की आय में इजाफा होगा। यदि यह कारखाना सफल होता है तो प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में भी एच.पी.एम.सी. इस तरह से अन्य कारखाने लगाएगा।

बीयर के लिए एच.पी.एम.सी. देगा जूस
पी.एच.-4 कंपनी को एप्पल साइडर बनाने के लिए एच.पी.एम.सी. जूस उपलब्ध कराएगा।  एच.पी.एम.सी. बागवानों से मंडी मध्यस्थता योजना (एम.आई.एस.) के तहत विभिन्न फलों की खरीद करता है। इस फल से जूस, जैम, स्क्वैश व आचार जैसे प्रोडक्ट तैयार किए जाते हैं। एम.आई.एस. के तहत खरीदे जाने वाले सेब का निगम एप्पल जूस कंसट्रैंट तैयार करता है। अब यह जूस एप्पल साइडर के लिए पी.एच.-4 कंपनी को मुहैया करवाया जाएगा।