Breaking News
prev next

एकात्म मानववाद के प्रणेता अंत्योदय से सर्वोदय

dyal
गीतांजलि पोस्ट श्रेयांस लूनकरनसर
पं. दीनदयाल उपाध्याय जी के जन्म दिवस पर विशेष
 25 सितम्बर 1916 को जयपुर से 15किमी दूरी पर स्थित ग्रम धानकया में अपने नाना पण्डित चुन्नीलाल शुक्ल के घर जन्मे दीनदयाल उपाध्याय ऐसी ही विभूति थे।
       दीनदयाल जी के पिता श्री भगवती प्रसाद ग्राम नगला चन्द्रभान, जिला मथुरा, उत्तर प्रदेश के निवासी थे। तीन वर्ष की अवस्था में ही उनके पिताजी का तथा आठ वर्ष की अवस्था में माताजी का देहान्त हो गया। अतः दीनदयाल का पालन रेलवे में कार्यरत उनके मामा ने किया। ये सदा प्रथम श्रेणी में ही उत्तीर्ण होते थे। कक्षा दस में उन्होंने सीकर के श्री कल्याण विद्यालय से   अजमेर बोर्ड तथा इण्टर में पिलानी में सर्वाधिक अंक पाये थे।
    14 वर्ष की आयु में इनके छोटे भाई शिवदयाल का देहान्त हो गया। 1939 में उन्होंने सनातन धर्म कालिज, कानपुर से प्रथम श्रेणी में बी.ए. पास किया। यहीं उनका सम्पर्क संघ के उत्तर प्रदेश के प्रचारक श्री भाऊराव देवरस से हुआ। इसके बाद वे संघ की ओर खिंचते चले गये। एम.ए. करने के लिए वे आगरा आये; पर घरेलू परिस्थितियों के कारण एम.ए. पूरा नहीं कर पाये। प्रयाग से इन्होंने एल.टी की परीक्षा भी उत्तीर्ण की। संघ के तृतीय वर्ष की बौद्धिक परीक्षा में उन्हें पूरे देश में प्रथम स्थान मिला था।
    अपनी मामी के आग्रह पर उन्होंने प्रशासनिक सेवा की परीक्षा दी। उसमें भी वे प्रथम रहे; पर तब तक वे नौकरी और गृहस्थी के बन्धन से मुक्त रहकर संघ को सर्वस्व समर्पण करने का मन बना चुके थे। इससे इनका पालन-पोषण करने वाले मामा जी को बहुत कष्ट हुआ। इस पर दीनदयाल जी ने उन्हें एक पत्र लिखकर क्षमा माँगी। वह पत्र ऐतिहासिक महत्त्व का है।1942 से उनका प्रचारक जीवन गोला गोकर्णनाथ (लखीमपुर, उ.प्र.) से प्रारम्भ हुआ। 1947 में वे उत्तर प्रदेश के सहप्रान्त प्रचारक बनाये गये।
    1951 में डा. श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने नेहरू जी की मुस्लिम तुष्टीकरण की नीतियों के विरोध में केन्द्रीय मन्त्रिमण्डल छोड़ दिया। वे राष्ट्रीय विचारों वाले एक नये राजनीतिक दल का गठन करना चाहते थे। उन्होंने संघ के तत्कालीन सरसंघचालक श्री गुरुजी से सम्पर्क किया। गुरुजी ने दीनदयाल जी को उनका सहयोग करने को कहा। इस प्रकार ‘भारतीय जनसंघ’ की स्थापना हुई। दीनदयाल जी प्रारम्भ में उसके संगठन मन्त्री और फिर महामन्त्री बनाये गये।
   1953 के कश्मीर सत्याग्रह में डा. मुखर्जी की रहस्यपूर्ण परिस्थितियों में मृत्यु के बाद जनसंघ की पूरी जिम्मेदारी दीनदयाल जी पर आ गयी। वे एक कुशल संगठक, वक्ता,लेखक, पत्रकार और चिन्तक भी थे। लखनऊ में राष्ट्रधर्म प्रकाशन की स्थापना उन्होंने ही की थी।
एकात्म मानववाद के नाम से उन्होंने नया आर्थिक एवं सामाजिक चिन्तन दिया, जो साम्यवाद और पूँजीवाद की विसंगतियों से ऊपर उठकर देश को सही दिशा दिखाने में सक्षम है।
         उनके नेतृत्व में जनसंघ नित नये क्षेत्रों में पैर जमाने लगा। 1967 में कालीकट अधिवेशन में वे सर्वसम्मति से अध्यक्ष बनायेे गये। चारों ओर जनसंघ और दीनदयाल जी के नाम की धूम मच गयी। यह देखकर विरोधियों के दिल फटने लगे। 11 फरवरी, 1968 को वे लखनऊ से पटना जा रहे थे, मार्ग में किसी अज्ञात व्यक्ति ने उनकी हत्या कर मुगलसराय रेलवे स्टेशन पर लाश फेंक दी। इस प्रकार अत्यन्त रहस्यपूर्ण परिस्थिति में एक राष्ट्र मनीषी का निधन हो गया।
It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn





Related News

  • अपनी बदकिस्मती पर आँसु बहाता देवयानी सरोवर
  • महिला गरिमा हेल्पलाइन ने मुक्त कराये तीन बाल श्रमिक
  • ऐसा क्या हैं, जिसके कारण रोहिंग्या लोगों शरणार्थी के रूप में भटकना पड़ रहा है
  • वास्तव में अफसरशाही हुई निक्कमी, गुहारों पर नही ध्यान
  • क्या हैं रोहिंग्याओं का इतिहास
  • अयोध्या में राम मंदिर निर्माण ही है सच्ची श्रद्धांजलि
  • एकात्म मानववाद के प्रणेता अंत्योदय से सर्वोदय
  • देवताओं की भूमि-उड़िसा
  • 28 Comments to एकात्म मानववाद के प्रणेता अंत्योदय से सर्वोदय

    1. Avito321mor says:

      Пополение баланса Авито (Avito) за 50% | Телеграмм @a1garant

      Здравствуйте, дорогие друзья!

      Всегда рады предоставить Все

    2. TJosephfruix says:

      http://bit.ly/2hiePjo – BrainRush – натуральное средство на основе мицелл, вытяжек и концентратов лекарственных растений с добавлением глицина, биотин

    3. limtorrenvb says:

      すべての limtorrent 投稿者

    4. limtorreneq says:

      すべての limetorrents 投稿者

    5. Avito321mor says:

      Пополение баланса Авито (Avito) за 50% | Телеграмм @a1garant

      Приветствую вас, дорогие друзья!

      Будем рады предоставить В

    6. Hello, after reading this amazing paragraph i am as well happy to
      share my experience here with mates.

    7. Is there slipping garden and patio entry way indoors?

    8. What’s up, constantly i used to check webpage posts here early in the daylight,
      as i love to learn more and more.

    9. Lelio Junior says:

      This post presents clear idea in support of the new users of blogging, that truly how to
      do blogging.

    10. Appreciate the recommendation. Let me try it out.

    11. Thanks in favor of sharing such a pleasant thinking, paragraph is
      pleasant, thats why i have read it fully

    12. Hey! Do you use Twitter? I’d like to follow you if that
      would be okay. I’m absolutely enjoying your blog and
      look forward to new updates.

    13. I always emailed this web site post page to all my friends, because if like
      to read it afterward my links will too.

    14. Do you have any video of that? I’d love to find out some additional information.

    15. This is very interesting, You’re a very skilled blogger.
      I have joined your feed and sit up for seeking more of your great post.
      Additionally, I

    16. I loved as much as you’ll receive carried out right here. The sketch is tasteful, your authored subject matter stylish.

      nonetheless, you command

    17. I every time spent my half an hour to read this blog’s content all the time along with
      a mug of coffee.

    18. To secure your household from deterioration?

    19. In order to safeguard your family members from impairment?

    20. Are you feeling which could be more purchase of your home?

    21. Is moving balcony room in your residence?

    22. Do you experience feeling these could be more find in your property?

    23. Howdy I am so glad I found your blog page, I really found you by accident, while I was looking on Askjeeve for
      something else, Nonetheless I am

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *