आतंकी सैयद सलाहुद्दीन का बेटा शाहिद यूसुफ 7 दिन की रिमांड पर

165

नई दिल्ली : हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी सैयद सलाहुद्दीन के बेटे शाहिद यूसुफ को एनआईए ने पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया। जहां कोर्ट ने शाहिद को 7 दिन के लिए एनआईए की रिमांड पर भेज दिया। शाहिद को 2011 से जुड़े हवाला फंडिंग केस में गिरफ्तार किया गया है। शाहिद जम्मू-कश्मीर सरकार के कृषि विभाग में जूनियर इंजीनियर है। हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी सैयद सलाहुद्दीन के बेटे शाहिद को एनआईए ने हाल ही में गिरफ्तार किया था। बुधवार को उसे दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया। जहां से अदालत ने उसे 7 दिन की एनआईए रिमांड पर भेज दिया। इससे पहले तकरीबन एक घंटे तक कोर्ट में मामले की सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान शाहिद यूसुफ के वकील के अलावा एनआईए के अधिकारी कोर्ट में मौजूद थे। मीडिया को सुनवाई से दूर ही रखा गया। एनआईए ने कोर्ट में कई कागजात भी पेश किए हैं, ये कागजात बैंक के ट्रांजेक्शन के थे। एजाज अहमद भट्ट और शाहिद यूसुफ के बीच हुए पैसों के ट्रांजेक्शन के कागजात को कोर्ट को बतौर सबूत पेश किया गया। दरअसल, 2011 के हवाला फंडिंग केस में शाहिद यूसुफ आरोपी है। शाहिद पर आतंकियों को पैसे मुहैया कराने का आरोप है। एनआईए ने पटियाला हाउस कोर्ट के स्पेशल जज से कहा कि शहीद यूसुफ एजाज अहमद भट्ट के संपर्क में था। एजाज अहमद भट्ट फ़िलहाल भगोड़ा है और हवाला नेटवर्क चलाता है। शाहिद यूसुफ सऊदी अरब से एजाज अहमद भट्ट से हवाला के जरिये पैसे मंगवाता था और फिर आतंकियों में बांटता था। कोर्ट मे एनआईए ने दावा किया कि उनके लेनदेन की पूरी डिटेल एनआईए के पास है और साथ ही एजाज अहमद भट्ट और शाहिद यूसुफ के बीच फोन पर हुई बातचीत की रिकॉर्डिंग भी मौजूद है। अब रिमांड के दौरान एनआईए शाहिद यूसुफ से पता लगाने की कोशिश करेगी कि आखिर किसे-किसे और कहां-कहां शाहिद ने हवाला के जरिए आया पैसा पहुंचाया। इस मामले में एनआईए पहले भी कई लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है. 2011 से ही शाहिद एनआईए की रडार पर था। लेकिन, सुरक्षा एजेंसी के पास कोई पुख्ता सबूत उसके खिलाफ नहीं थे। लेकिन, जैसे ही एजेंसी के हाथ ट्रांजेक्शन और फोन रिकॉर्डिंग के सबूत लगे तो उन्होंने शाहिद यूसुफ को सम्मन भेजकर जांच में शामिल होने के लिए कहा। जिसके बाद मंगलवार को लंबी पूछताछ के बाद एनआईए ने शाहिद को गिरफ्तार कर लिया।