हिन्दू आध्यत्मिक सेवा मेला का आगाज 16 – 20 नवम्बर तक होंगे कई थीम आधारित कार्यक्रम

0
24

जयपुर । हिन्दू आध्यत्मिक एवम् सेवा फाउंडेशन (HSSF) द्वारा लगातार तीसरे वर्ष 16 से 20 नवम्बर तक अम्बेडकर सर्किल स्थित एसएमएस इन्वेस्टमेंट ग्राउंड में आयोजित होने वाले सेवा मेले की तैयारियां अंतिम चरण में है तथा  पिछले वर्षों की अपेक्षा इस वर्ष सेवा मेले कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं में कई गुना ज्यादा ऊर्जा का संचार देखा जा रहा है । मेले का मुख्य उद्देशय भारत की सामाजिक एवम् सांस्कृतिक विरासत को सहेजना एवम् प्रतीकों को प्रभावी उपयोग द्वारा मूल्यों , संस्कारों और प्रतीकों की एक त्रयी करना है मनुष्य के मन मस्तिष्क पर वैचारिक आधार प्रदान करने के लिए इस मेले में वन एवम् वन्य जीव संरक्षण की दृष्टि से पेड़ पौधों एवम् वन्य जीवों के प्रति सम्मान हेतु- वृक्ष वंदन, नाग वंदन , पारिस्थितिकी संरक्षण की दृष्टि से सभी प्राणी-प्रजाति एवम् वनस्पति के लिए सम्मान हेतु गौ- वंदन, गज वंदन एवम् तुलसी वंदन ,  पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से धरती माता नदियों एवम् प्रकृति के प्रति सम्मान हेतु भूमि वंदन एवम् गंगा वंदन , पारिवारिक एवम् मानवीय मूल्यों की स्थापना की दृष्टि से माता- पिता ,शिक्षकों एवम् अपनों से बड़ों के प्रति सम्मान हेतु मातृ-पितृ वंदन आचार्य वंदन एवम् अतिथि वंदन , महिलाओं को सम्मान की दृष्टि से बालिकाओं एवम् मातृत्व का सम्मान हेतु कन्या वंदन एवम् सुवासिनी वंदन एवम् राष्ट्र भक्ति जागरण की दृष्टि से राष्ट्र एवम् राष्ट्रीय वीर योद्धाओं के प्रति सम्मान हेतु भारत माता वंदन एवम् परम वीर वंदन कार्यक्रम के माध्यम से समाज में जाग्रति का कार्य HSSF द्वारा किया जा रहा है । HSSF के प्रदेश सचिव सोमकांत शर्मा ने बताया कि 16 से 20 नवम्बर तक होने वाले सेवा मेले में दादी नानी का घर , हेरिटेज गाँव, विज्ञान मॉडल प्रदर्शनी, फोटोग्राफी पोस्टर प्रदर्शनी, सांस्कृतिक व रचनात्मक प्रतियोगिताएँ, चित्रकला प्रतियोगिता, श्री कृष्ण योगाथोंन, प्रश्न मंच प्रतियोगिताएं, प्रयास (लाइव पेंटिंग ), सामाजिक समरसता सम्मलेन, पुरस्कार वितरण समारोह, सांस्कृतिक कार्यक्रमों एवम् छः थीमों पर आधारित प्रदर्शनी मुख्य आकर्षण का केंद्र रहेगा ।

लाखों बच्चों को पारम्परिक जीवन शैली एवम् संस्कारों का पढ़ाएंगे पाठ

HSSF द्वारा आयोजित सेवा मेले में पांच दिनों में सैंकड़ों विद्यालयों से लगभग पांच लाख बालक बालिकाओं का आगमन रहेगा जैसा कि बाल मन पर कहानियों का प्रभाव सर्व विदित है अतः दादी नानी का घर थीम के माध्यम से बच्चों को लाइव कहानियां सुनाकर उनको सीधा हमारी परम्पराओं एवम् संस्कृति और भारतीय जीवन शैली व संस्कारों से जोड़ने का प्रयास रहेगा साथ हीं हेरिटेज गाँव भी इस मेले का मुख्य आकर्षण का केंद्र रहेगा जिसमें परम्परागत जीवन शैली को पुनः जीवंत करने का प्रयास किया जायेगा । HSSF के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बापना ने बताया कि पिछले वर्ष लगे सेवा मेला में दादी नानी का घर एवम् हेरिटेज गाँव की थीम को काफी सराहना मिली तथा इस थीम् की कल्पना काफी हद तक सार्थक भी रही इसलिए इस वर्ष आयोजित मेले में इस थीम पर विशेष योजनानुरूप दादी नानी का घर एवम् हेरिटेज गाँव बनाया जायेगा , दादी नानी का घर थीम में बच्चों को लाइव कहानियां सुनाई जायेगी वहीँ हेरिटेज गाँव में मेहमानों की परम्परागत राजस्थानी वेशभूषा में आवभगत  मान मनुहार के साथ लाइव भोजन करवाया जायेगा जिसका उद्देश्य भाव की प्रधानता होगी।