Breaking News
prev next

महिलाओं के क़ानूनी अधिकार

court

गीतांजलि पोस्ट …..लीगल टीम गीतांजलि पोस्ट…… भारत में महिलाओं की रक्षा हेतु कानूनों की कमी नहीं है कमी हैं महिलाओं में जागृति की, अपने अधिकारों के लिये लडने की । अपने अधिकारों का एक महिला सही उपयोग तभी कर सकती है, जब वह इनके प्रति जागरूक हो और ख़ुद ऐसा करना चाहती हो। आज के इस विशेष लेख में हमने हिंदू परित्यगता स्त्री के कानूनी अधिकारों के बारे में बताया हैं, कोई भी हिंदू पत्नी जिसका परित्याग किया गया हो, क़ानूनी तौर पर इन अधिकारों की हक़दार है, जिन्हें वो चाहे तो लागू कराने की मांग कर सकती है।

-अगर पत्नी को लगता है कि उसके पति या उसके परिवार वालों की ओर से उसका मानसिक उत्पीडऩ हुआ है तो वह उन पर मुकदमा कर सकती है, सामाजिक स्थितियों के मुताबिक़ पत्नी का परित्याग करना क़ानून की नजऱ में बड़ा मानसिक और सामाजिक उत्पीडऩ माना जा सकता है।

-हिन्दू विवाह क़ानून 1955, धारा-9 वैवाहिक संबंधों की बहाली का प्रावधान करती है, यह धारा किसी पति-पत्नी को एक दूसरे के साथ रहने का अधिकार देती है। यदि तलाक न हुआ हो तो, इस धारा के तहत वह महिला पति के साथ रहने की मांग कर सकती है।

-भरण पोषण या गुज़ारा भत्ता ऐसी महिला अपने पति के सामर्थय और सामाजिक हैसियत के अनुसार उसी स्तर के रहनसहन के अधिकार की मांग कर सकती है। हिन्दू विवाह क़ानून की धारा 24 भरण पोषण और गुज़ारा भत्ता का प्रावधान करती है । ऐसी महिला को यह अधिकार हिन्दू दत्तक और भरण-पोषण अधिनियम, 1956 की धारा-18 से भी मिलता है। परित्यक्ता पत्नी को मिलने वाले एकमुश्त खर्च के अधिकार के तहत वह चाहे तो जीवन निर्वाह के लिए पति से एकमुश्त खर्च मांग सकती है।

– ऐसी महिला के पास घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण क़ानून, 2005 के अन्तर्गत कार्रवाई का भी विकल्प है, किसी भी महिला के लिए इस तरह का सामाजिक-आर्थिक परित्याग और मानसिक उत्पीडऩ असहनीय होगा और इस वजह से यह गंभीर घरेलू हिंसा के क़ानून के दायरे में आ सकता है।

-ऐसी महिला पति और उसके परिवार पर घरेलू हिंसा और दूसरे फ़ौजदारी क़ानून के तहत अपने साथ हुए मानसिक उत्पीडऩ के लिए मुक़दमा कर सकती है। ऐसी महिला घरेलू हिंसा के परिणामस्वरूप हुए आर्थिक, मानसिक और शारीरिक उत्पीडऩ की भरपाई के लिए क्षतिपूर्ति की मांग भी कर सकती है।

– यदि ऐसी महिला का पति सरकारी कर्मचारी या सरकारी पद पर है, तो उसे सरकारी और निजी निवास में रहने का अधिकार भी है और वह चाहे तो इसके लिए कोर्ट जा सकती है।

– इंजंक्टिव रिलीफ़ के तहत ऐसी महिला घर में रहते हुए उनके द्वारा या उनके घर वालों द्वारा क्षति न पहुंचाने और पति और उसके परिवार वालों को उसके निजी या सरकारी मकान में न घुसने देने की मांग कर सकती है। वह अपनी स्वास्थ्य सुरक्षा और अन्य सुविधाओं की मांग कर सकती हैं और उनका उपयोग भी कर सकती है।

रेणु शर्मा,जयपुर संपादक -गीतांजलि पोस्ट साप्ताहिक समाचार-पत्र

रेणु शर्मा,जयपुर
संपादक -गीतांजलि पोस्ट साप्ताहिक समाचार-पत्र

It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn





Related News

  • सुप्रीम कोर्ट ने दी राजमार्ग पर शराब दुकानों को छूट
  • सचिवालय के संविदा कर्मचारी को देना पड़ेगा पत्नी को गुजारा-भत्ता
  • दिल्ली सरकार का 15000 टीचर्स को नियमित करने का एलान, HC ने लगाई रोक
  • व्हाट्सऐप, फेसबुक पर SC सख्त, डाटा ट्रांसफर मामले में मांगा हलफनामा
  • 13 साल की रेप पीड़िता को SC ने दी गर्भपात की इजाजत
  • संविदा पर काम कर रहे सेवानिवृत्त कर्मचारियों को हटाए सरकार:हाईकोर्ट
  • ऐतिहासिक फैसला, पहली बार IAS अधिकारियों की जिम्मेदारी तय
  • डेरा सच्चा सौदा प्रकरण: HC ने ADG रैंक के अधिकारी की अगुवाई में SIT गठित करने का दिया निर्देश
  • 9 Comments to महिलाओं के क़ानूनी अधिकार

    1. Alinkatjk says:

      https://image.ibb.co/bTZSk6/copywriting_rabota.jpg
      Здравствуйте участники этого ресурса.
      Не та

    2. Rolandadell says:

      how to buy viagra online ehow
      erectile dysfunction pills
      100mg viagra how long will it last
      <a href=http:

    3. ChrisbeS says:

      viagra und viagra generika unterschied
      erectile dysfunction pills
      do viagra pill look like
      <a href=http:/

    4. Rolandadell says:

      get viagra legally
      erectile dysfunction medications
      cialis online cheapest prices
      <a href=http://pillshne

    5. Louisgam says:

      generic cialis buy uk
      cialis without a doctor’s prescription
      buy cialis in europe
      <a href=http://cialisvi

    6. Robertfum says:

      discount coupon for cialis
      no prescription cialis
      do you need a prescription to buy cialis
      <a href=http:/

    7. TysonInjes says:

      buy cialis online with prescription
      cialis on line no pres
      cheap brand cialis online
      <a href=http://ciali

    8. RickyDit says:

      buy viagra in karachi
      cheap viagra
      can i buy viagra over the counter at boots
      <a href=http://viagrakbg.com/

    9. Marilyndus says:

      viagra online next day delivery
      viagra for sale
      viagra tablets price in tamilnadu
      <a href=http://hqviagraj

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *