Breaking News
prev next

राहुल गाँधी के नेतृत्व में इतिहास बनकर ना रह जाए कॉंग्रेस

congress
Geetanjali post( shreyans)
1885 में गठित भारतीय राष्ट्रीय कॉंग्रेस पार्टी में नए अध्यक्ष को लेकर न तो अटकलें हैं और न ही जिज्ञासाएं क्योंकि यह तय मानकर चला जा रहा है कि यह पद किसे दिया जाएगा बस अब इसकी विधिवत प्रक्रिया के तहत घोषणा होना शेष है। अन्य राजनीतिक दल (व्यक्ति प्रधान क्षेत्रीय दलों को छोड़कर) जब अपने राष्ट्रीय अध्यक्षों की घोषणा करते हैं तो उस दल से जुड़े अध्यक्ष पद के उम्मीदवार नेता और जनता में भी जिज्ञासा रहती है और पद भी समय-समय पर अनेक नेताओं की झोली में जाता है।
कॉंग्रेस के संदर्भ में ऐसा कहना बिल्कुल गलत होगा क्योंकि सोनिया गांधी के राजनीति में प्रवेश के साथ ही पूरी कॉंग्रेस उनके इर्द-गिर्द ही सीमित होकर रह गई है। विदेशी महिला के विषय पर दिग्गज कॉंग्रेसी नेताओं ने कॉंग्रेस को अलविदा कह कर अपनी पार्टी का निर्माण भी किया जैसे शरद पंवार की राकांपा। सोनिया गांधी के राजनीति में प्रवेश का लक्ष्य कॉंग्रेस संगठन की नीति निर्धारित करने वाले वरिष्ठ कॉंग्रेसी नेताओं द्वारा ‘गांधी’ नाम को भुनाना था, किन्तु इसका जवाब वो ही दे सकते है कि वे अपने इस निर्णय में कितना सफल हुए?
सोनिया गांधी 1998 में कॉंग्रेस की अध्यक्ष बनी तबसे लेकर आज तक कॉंग्रेस के अध्यक्ष पद पर विराजमान हैं। 90 के दशक में भारत की राजनीति में परिवर्तन आया और सरकार बनाने में क्षेत्रीय दलों की भूमिका बढ़ गई। अनेक दल मिलकर साझा सरकार का निर्माण करने लगे और राजनीतिक अस्थिरता की स्थति के चलते साझा सरकारों का कार्यकाल सीमित ही रहा और अनेक बार चुनावों की नौबत आई, लेकिन कॉंग्रेस ने अपनी रणनीति पहले की तरह यथावत रखी। परिणाम यह हुआ कि वह पूर्णतः फेल रही क्योंकि अन्य दल अपनी कमियों को दूर कर तथा समय की आवश्यकता को देखते हुए मैदान में उतरे थे और समय की मांग को न भांपना कॉंग्रेस को भारी पड़ा।
राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग या NDA) की सरकार का गठन हुआ तथा अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में यह देश की पहली साझा सरकार बनी जिसने पांच वर्ष का कार्यकाल पूरा किया। अब तक चुनावों के बाद में गठबंधन होने का निर्णय होता था, किंतु इस चुनाव में पहले ही गठबंधन करके मैदान में उतरा गया। अब भी कॉंग्रेस अपनी सैद्धान्तिक विचारधारा पर अडिग थी कि पहले चुनाव में उतरेंगे फिर परिणामों के बाद गठबंधन तथा प्रधानमंत्री पद के योग्य व्यक्ति का निर्णय लेंगे। लेकिन यह कॉंग्रेस इस समय तक पहले वाली कॉंग्रेस नही रही थी कि अकेले दम पर सत्ता में काबिज हो जाती।
देश की राजनीति और जनता का मूड, दोनों बदल रहा था। विपक्ष पहले ही गठबंधन बनाकर मैदान में उतरा और सफलता प्राप्त की। NDA से प्रेरणा लेकर बाद में कॉंग्रेस ने चुनावपूर्व गठबंधन की नीति अपनाई, किन्तु समय निकलने के बाद सिवाय समीक्षा के अलावा कोई विकल्प नहीं रहता।
“कॉंग्रेस के पास अध्यक्ष के रूप में केवल एक ही विकल्प है, वह भी राहुल गांधी? राहुल गांधी की पहचान मात्र इंदिरा जी के पोते और राजीव गांधी के बेटे के रूप में ही होती है”
इंदिरा को भी कॉंग्रेस के नेता ऐसी ही परिस्थितियों में ‘चेहरे’ के रूप में लाये थे और वो सफल भी रही, लेकिन सोनिया गांधी ‘चेहरे’ के मापदंडों को पूरा नही कर पाई। भाषण कला राजनीति का परम आवश्यक तत्व है और भारत के संदर्भ में तो हिंदी का प्रभावी वक्ता होना जो अपने भाव जनसमूह के सामने व्यक्त कर उसे प्रभावित करने की क्षमता रखता हो, बहुत ज़रूरी है। सोनिया गांधी इस विषय में भी खरी साबित नही हुई और यह फिर साबित हो गया कि राजनीति में केवल नाम नहीं वरन योग्यता से मुकाम हासिल किया जाता है।
2004 के चुनावों में भाजपा ‘इंडिया शाईनिंग’ के नारे से मैदान में थी लेकिन परिणाम अपेक्षित नही रहा। इन चुनावों में संप्रग (UPA) विजयी हुई और मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री बनाया गया। इस काल में कॉंग्रेस अध्यक्ष का पद देश के प्रधानमंत्री के पद से भी बड़ा बन गया। लगातार दो चुनावों में कॉंग्रेस को अपेक्षित परिणाम मिले जिसे वो अपनी अध्यक्ष के नेतृत्व की सफलता मानती रही, किन्तु इस पूरे समय में सत्ता पर पार्टी संगठन हावी रहा।
नेहरू के समय कॉंग्रेस पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र विद्यमान था और स्वयं उनकी शैली लोकतांत्रिक थी। इंदिरा जब प्रधानमंत्री बनी तो उन्होंने संगठन के कामों में हस्तक्षेप किया और कॉंग्रेस की व्यवस्था को केंद्रीयकृत बना दिया जिसका खामियाजा उन्हें तो नहीं भुगतना पड़ा क्योंकि वो अपनी ईच्छाशक्ति के अनुरूप परिणाम लाने के लायक थी। लेकिन उनकी विरासत को आगे ले जाने का जिम्मा जिन लोगों के हाथों में आया वो उस ज़िम्मेदारी को परिपक्व रूप से नहीं निभा सके।
प.नेहरू, इंदिरा और राजीव तीनों अपने कार्यकाल में जनता में लोकप्रिय होते हुए प्रसिद्धि को प्राप्त हुए, किन्तु उनके बाद उनके वंशज अपनी कमियों में उलझकर रह गए। कॉंग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र तो नहीं कहा जा सकता, क्योंकि संगठन का शीर्ष नेतृत्व पद एक व्यक्ति के अधीन लगभग 20 वर्षों तक रहा है इसलिए कॉंग्रेस एक व्यक्तिप्रधान पार्टी बन गई है।
आज कॉंग्रेस की चुनौती अपनी कमियों के साथ-साथ भाजपा जैसे सशक्त संगठन से है जो अपने पैरो को दिल्ली से लेकर पंचायत तक जमा चुकी है। उसके विरुद्ध कॉंग्रेस के पास अध्यक्ष के रूप में केवल एक ही विकल्प उपलब्ध है, वह भी राहुल गांधी? राहुल गांधी की पहचान मात्र इंदिरा जी के पोते और राजीव गांधी के बेटे के रूप में ही होती है, क्योंकि उनकी तरह नेतृत्व का करिश्माई गुण उनके पास अब तक तो देखने को नही मिला है।
2013 में कॉंग्रेस उपाध्यक्ष बनाए जाने के बाद से ही राहुल के नेतृत्व की भूमिका पर सवाल उठते रहे हैं, क्योंकि सभी बड़े राज्यो के विधानसभा चुनावों में कॉंग्रेस को पराजय मिली। लोकसभा चुनाव में तो अब तक का सबसे खराब प्रदर्शन रहा और मात्र 44 सीटो पर कॉंग्रेस पार्टी सिमट कर रह गई। अन्य दल जहां हार पर अपने नेतृत्व में परिवर्तन करते हैं, वहीं कॉंग्रेस हार का परिणाम पार्टी अध्यक्ष के रूप में बतौर पुरस्कार दे रही है। 1885 में बनी पार्टी आज इतने संकटों से जूझ रही है कि उसे राज्य चुनाव भी क्षेत्रीय दलों से गठबंधन करके लड़ने पड़ रहे हैं। ऐसे में राहुल को अध्यक्ष बनाने का निर्णय पारिवारिक मोह के अतिरिक्त कुछ नहीं है, क्योंकि योग्यता के पैमाने को देखा जाता तो कॉंग्रेस के पास और विकल्प भी हो सकते थे।
जब मुकाबला मोदी जी से हो तो उनके सामने राहुल को उतारना तो हास्यास्पद ही होगा। प.नेहरू और इंदिरा ने जहां अपने वैश्विक आयाम स्थापित किए वहीं आज की कॉंग्रेस के नेता अपने राष्ट्रीय आयाम भी स्थापित नही कर सके हैं। राहुल गांधी का अध्यक्ष बनना भाजपा के लिए जरूर सुखद है, किन्तु यह निर्णय कॉंग्रेस के ताबूत में कहीं आखरी कील साबित न हो।
It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn





Related News

  • केंद्रीय पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे का निधन
  • कांग्रेस से निष्कासित बरखा शुक्ला भाजपा में शामिल
  • कांग्रेस नेता और दिल्ली के पूर्व मंत्री अरविन्द सिंह लवली ने बीजेपी का थामा दामन
  • सचिन पायलट राजस्थान के सीएम प्रोजेक्ट, मिला फ्री हैंड, बांटेंगे टिकट,दिल्ली में हुआ फैसला
  • ‘ईमानदार युग की हो चुकी है शुरुआत, कड़े कदम उठाते रहेंगे’-PM
  • ओम माथुर बन सकते है राजस्थान के नए सीएम, वसुंधरा राजे मोदी कैबिनेट में जल्द बदलाव!
  • गवर्नेंस का पावर पंच और ब्यूरोक्रेसी की दोधारी तलवार
  • यूपी में ‘योगी राज’ के 15 दिन पूरे,अबतक के 15 बड़े फैसले
  • 16 Comments to राहुल गाँधी के नेतृत्व में इतिहास बनकर ना रह जाए कॉंग्रेस

    1. Alinkaifo says:

      https://image.ibb.co/bTZSk6/copywriting_rabota.jpg
      Приветствую участники этого ресурса.
      Не так

    2. Rolandadell says:

      best place order cialis
      ed medications
      buy cialis online without prescriptions
      <a href=http://pillshnembn

    3. Kellybum says:

      buying cialis in puerto vallarta
      ed medications
      viagra like pill for women
      <a href=http://pillshnembn.com

    4. ChrisbeS says:

      comprar cialis generico farmacias
      ed medications
      tadalafil oral jelly 20mg
      <a href=http://pillshnembn.com

    5. Louisgam says:

      buy generic viagra cialis levitra
      cialis rezeptfrei
      cialis buy in canada
      <a href=http://cialisviymw.com/#

    6. Louisgam says:

      cheap cialis prices
      cialis without a doctor prescription
      cheap cialis new zealand
      <a href=http://cialisvi

    7. Berthahiree says:

      100mg viagra price
      generic viagra 100mg
      se puede comprar viagra en farmacia
      <a href=http://hqviagrajdr.com

    8. Melbapeafe says:

      say get doctor prescribe viagra
      viagra without a doctor prescription
      best place buy sildenafil
      <a href=htt

    9. Jacobexodo says:

      fast cash advance loans
      payday loans no credit check
      loans for people with very bad credit
      <a href=http://p

    10. MarvinWer says:

      cheapest canadian pharmacy for cialis
      cheap cialis
      where to buy cheap cialis
      <a href=http://cialiskbg.com/#

    11. ClaytonRar says:

      buy cialis online with no prescription
      cialis tablets
      buy cheap viagra cialis
      <a href=http://cialiskbg.com/

    12. DarrelMut says:

      precio de sildenafil 50 mg en argentina
      how much viagra does cost
      can i buy viagra from a chemist
      <a href=h

    13. Austinwat says:

      viagra online bestellen illegal
      viagra prices
      how to buy viagra in bangalore
      <a href=http://viagrangk.com/#

    14. ScottSnise says:

      buy viagra online bangalore
      best price for viagra
      when does viagra go generic in the us
      <a href=http://viag

    15. Larryvarse says:

      sirve el sildenafil generico
      how much viagra does cost
      is generic viagra available in us
      <a href=http://via

    16. Louisder says:

      en las farmacias se puede comprar viagra
      how much viagra does cost
      get hard viagra
      <a href=http://viagrangk

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *