आदिवासी मेले में हुआ Kiss Contest

739
229

[wpdevart_youtube]0uPliBt4geI[/wpdevart_youtube]

GEETANJALI POST

झारखंड में पहली बार आयोजित हुआ चुंबन प्रतियोगिता और ये रांची या जमशेदपुर के सिटी में नहीं बल्कि झारखंड के पिछड़े इलाके में हुआ, आदिवासी मेले में हुआ Kiss Contest, पतियों ने पत्नियों को यूं उठाया गोद में

पाकुड़ (झारखंड)। यहां डुमरिया सिद्धो कान्हू मेले का शनिवार की रात आयोजन किया गया। इस दौरान एक कंपीटिशन रखा गया, जो बेहद चर्चित रहा। इसका नाम था ‘किस कंपीटिशन’। इसमें दर्जनों शादीशुदा महिला-पुरुषों ने हिस्सा लिया और अपने-अपने साथी को किस किया।
-पति-पत्नी के बीच आपसी प्रेम को बढ़ावा देने के लिए लिट्टीपाड़ा विधायक साइमन मरांडी ने पारंपरिक मेले में ‘किस कंपीटिशन’ का आयोजन कराया। कंपीटिशन के नियमों के अनुसार प्रतिभागियों को बिना शर्माए एक दूसरे का चुम्मन करते हुए एक गंतव्य स्थान तक पहुंचना था। इसमें सफल तीन जोड़ों को पुरस्कृत भी किया गया। इस मौके पर महेशपुर विधायक स्टीफन मरांडी, झामुमो जिलाध्यक्ष श्याम यादव समेत सैकड़ों लोग मौजूद थे।

लिट्टीपाड़ा ब्लॉक के डुमरिया गांव में हर साल इस मेले का आयोजन कराया जाता है। मेले में जिले के सभी आदिवासी पहाड़िया समाज के लोग हिस्सा लेते हैं।
-इस दौरान कई सांस्कृतिक गतिविधियों का आयोजन होता है। पहली बार मेला समिति ने इस कंपीटिशन को ऑर्गनाइज किया था।
-इस कंपीटिशन में दर्जनों विवाहित जोड़ों ने हिस्सा लिया। इधर, मेले में लोगों के मनोरंजन के लिए आदिवासी एवं पहाड़िया द्वारा नृत्य, गीत भी प्रस्तुत किया गया।

सैकड़ों लोग थे मौजूद
-सैकड़ों लोगों ने मेले में इस अनुठे कंपीटिशन का लुफ्त उठाया। इस कंपीटिशन में दर्जनों विवाहित जोड़ियों ने हिस्सा लिया और एक दूसरे को किस किया।-विवाहित महिला-पुरुषों ने कंपीटिशन में हिस्सा लेकर यह दिखाने का भी प्रयास किया कि वे अब मॉर्डन युग में जीना चाहते हैं। यह कंपीटिश जिले में चर्चा का विषय बन गया है।

प्रेम व आधुनिकता को देना है बढ़ावाः साइमन
-लिट्टीपाड़ा विधायक साइमन मरांडी ने कहा कि प्रेम व आधुनिकता को बढ़ावा देने को लेकर यह कंपीटिशन कराया गया।
उन्होंने कहा-‘आदिवासी समाज के लोग संकोची होते हैं। ऐसे में वैवाहिक जोड़ों द्वारा सार्वजनिक तौर पर ऐसे कंपीटिशन में हिस्सा लेने से न सिर्फ उनके बीच आपसी प्रेम बढ़ेगा बल्कि, उनका संकोच भी दूर होगा।’
गौरतलब है कि साइमन मरांडी अपने पैत्रिक गांव तालपहाड़ी में कई दशकों से सिद्धो कान्हू मेले का आयोजन करते आ रहे हैं। इस मेले में आतिशबाजी के अलावे स्थानीय कलाकार पारंपरिक नृत्य संगीत भी प्रस्तुत करते हैं।