Breaking News
prev next

विहिप के आह्वान पर शांतिपर्ण रहा बंद, मुस्लिम समाज ने दुकाने खोलकर बंद का बहिष्कार,

 

 

 

गीतांजलि पोस्ट…….(जितेंद्र वर्मा) बूंदी:- विश्व हिंदू परिषद एवं बजरंग दल के द्वारा हाडोती बंद की घोषणा की गई थी| इसीके तहत आज बूंदी में भी बंद रखा गया। त्योहार के अवसर पर बूंदी बंद रखने के विरोध में यूं तो कई संगठनों ने आवाज उठाई थी लेकिन आम जनता के  सहयोग और समर्थन के कारण शांतिपूर्ण बंद  रहा।

विहिप के हाडोती बंद के ऐलान के बाद बूंदी में जगह जगह आक्रोश का स्वर फूट पड़ा।  मानधाता छतरी पर पूजा के समर्थन में प्रेस कॉन्फ्रेंस करने के बाद शाम को ही विश्व हिंदू परिषद बूंदी के पदाधिकारियों ने कार्यक्रम को स्थगित करने का प्रेस नोट जारी कर दिया था  लेकिन हिंदू समाज के द्वारा आंदोलन कर मानधाता छतरी पर स्थित बालाजी की पूजा-अर्चना शुरू करवा दी। जब मामला पूर्णतया शांत हो चुका था तो विश्व हिंदू परिषद द्वारा बंद का ऐलान किया गया जिससे हिंदू समाज में रोष में था और बंद के समर्थन में नहीं था। लेकिन क्योकि मामला आस्था और बून्दी की जनता से जुड़ा हुआ था तो स्वेच्छा से लोगो ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे।

 

बूंदी की टाइगर हिल पर स्थित मानधाता छतरी पर पूजन सार्वजनिक करने और 1 जनवरी को पूजा की मांग कर रहे लोगों पर लाठीचार्ज कराने के लिये बूंदी जिला कलक्टर शिवांगी स्वर्णकार व पुलिस महानिरीक्षक विशाल बंसल को हटाने की मांग को लेकर शुक्रवार को बूंदी शहर सहित आधा दर्जन कस्बे बंद रहे। मानधाता छतरी विवाद को लेकर हिंदू परिषद् के आह्ववान पर आज बूंदी शहर सहित बूंदी जिला शांति पूर्ण तरीके से बंद रहा। कोटा आई जी विशाल बंसल, कलक्टर शिवांगी स्वर्णकार, एस पी आदर्श सिंधू ने बाजारों में घूम घूम कर  स्थिति पर अपनी नजर बनाये रखी और माहौल का जायजा लेते रहे। बंद के दौरान शहर के सभी बाजार पूर्ण बंद रहे।विहिप के कार्यकर्ता बाजारों में घूम कर बंद कराते रहे हालांकि कुछ मुस्लिम समाज के लोगो ने पूर्व घोषणा अनुसार अपनी दुकानें खोलकर बंद का बहिष्कार किया, मिस्त्री मार्केट में शुक्रवार होते हुए भी कुछ दुकाने जरूर खुली लेकिन अधिकतर ने बंद का समर्थन किया। अप्रिय घटना को रोकने के लिए बाजारों में भारी संख्या में पुलिस जाप्ता तैनात रहा।अति.पुलिस अधीक्षक दशरत सिह बाजार में जवानों के साथ मार्चपार्स्ट करते नजर आये।पुलिस ने विवादित स्थल पर जाने वाले रास्ते पर वीडियोग्राफी, बेरिकेटिंग कर भारी जाप्ता तैनात रखा। पेट्रोल पंप, मेडिकल स्टोर, दूध डेयरिया ,बैंक व अस्पताल खुले रहे। विश्व हिंदू परिषद के हाड़ौती बंद के आह्वान पर सुबह से ही बाजार नहीं खुले। लोगों ने स्वत: दुकानें बंद रखी। इस दौरान विहिप कार्यकर्ता बाजारों में मौजूद रहे। बंद के चलते सडक़ों पर सन्नाटा पसरा हुआ है।थड़ी-ठेले भी नहीं लगे।बाजारों में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी बाजारों में लगातार गश्त कर रहे हैं। बूंदी शहर में कुछ बाजारों की ओर बेरिकेट्स भी लगाए गए हैं। ताकि किसी भी घटना के दौरान लोगों को रोका जा सके। दिन भर बाजारों में चहल पहल जरूर रही। 2 बजे बाद सदर बाजार में पतंग विक्रेताओं ने दुकाने खोल दी और अन्य दुकाने बंद रही।अतिरिक्त जिला कलक्टर (प्रशासन) नरेश मालव, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दशरथ सिंह बाजार में डेरा जमाए रहें। वही विहिप के आह्वान के समर्थन में वकीलों ने भी न्यायायिक कार्य स्थगित रखा है। बूंदी की कृषि उपज मंडी में जिंसों की नीलामी नहीं हुई। जिले में देई, नैनवां, केशवरायपाटन, कापरेन, हिण्डोली, लाखेरी, करवर, पेचकी बावड़ी कस्बे में भी बाजार बंद रहे।

 

हाडा राजाओं की कर्म स्थली बूंदी जो छोटी काशी के रूप में मशहूर है साथ ही धार्मिक समन्वय का केंद्र भी रही है। एक ही परिसर में मंदिर और मस्जिद लेकर चलने वाली बूंदी , जहां एक दूसरे के धर्म का सम्मान और समर्थन करने वाले लोगों की जन्म स्थली है वही अपने शौर्य और वीरता के लिए जानी जाती है। बड़ी बड़ी घटनाओं के दौरान भी बूंदी में सांप्रदायिक सद्भाव वैसा का वैसा ही रहा। लोग एक दूसरे के मजहब को सम्मान देने का प्रयास करते रहे लेकिन धार्मिक मुद्दों को राजनीतिक रूप देकर विवाद भी खड़े कर दिए जाते हैं। प्रशासन द्वारा शांति समिति की बैठक और लोगों के आपसी सामंजस्य के कारण बनी विकट परिस्थिति यूं ही शांत हो गई। जहां हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को मुस्लिम समाज ने भी समझा और बड़े स्तर पर समर्थन भी किया। इसी कारण शांतिपूर्ण तरीके से बूंदी बंद सफल हो सका। इसीलिये बून्दी को गंगा यमुनी संस्कृति का प्रतीक कहा जाता है।

It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn





Related News

  • बेकाबू घोड़ी तांगा सहित भागी, मची अफरा तफरी
  • अजब संयोग का रहस्य है मौनी अमावस्या में
  • बेजुबानों के प्राण रक्षक बने बजरंगी
  • मकर सक्रांति पर दान करने उमड़ पड़ा सांभर क़स्बा।
  • दान के महापर्व मकर सक्रांति पर होगे दान पुण्य कार्य
  • शहर को स्वच्छ बनाने में उमड़ा हिंडौन शहर
  • मानव हित सेवा समिति ने पतंग न उड़ाने की ली शपथ
  • 3 दिवसीय निःशुल्क आधार कार्ड केम्प सम्पन
  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *