आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर समाज ने भरी हुंकार

0

झुंझुनूं । गुर्जर महापंचायत एवं गुर्जर महापंचायत यूथ ब्रिगेड सहित समाज के विभिन्न लौगों ने सोमवार को पांच प्रतिशत आरक्षण सहित अन्य मांगों को लेकर रैली निकाल सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर हुंकार भरी। दोपहर बाद गांधी पार्क में हुई सभा को संबोधित करते हुए झुझारपुर उपप्रधान अमर सिंह खटाणा ने कहां कि समाज युवा हर क्षेत्र में सेवा के लिए तैयार है। उन्होंने कहां कि पूर्वजों के आदर्शों पर चलकर आरक्षण की सही गति पकडनी होगी। धर्मपाल गुर्जर ने कहां कि गुर्जर आरक्षण आंदोलन में हुए 72 शहीदों की बजाए चाहे अब 72 हजार की कुर्बानी देनी पडे लेकिन आरक्षण को लेकर ही रहेंगे। उन्होंने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि समाज का नौजवान हर मैदान में तैयार यहां तक की स्वाभाविक की आंच पर समाज की नारी भी आगे है। साथ ही उन्होंने कहां कि आरक्षण की मांग को लेकर आगे की रणनीति संघर्ष समिति बनाएगी ओर इस रणनीति से सरकार को मजबूरन ही झुकना होगा। चाहे इसके लिए तिहाड़ जेल ही क्यों ना जाना पडे। शीशराम खटाणा ने अपने संबोधन में कहां कि भाजपा और कांग्रेस दोनों एक ही थाली के चट्टेपटे है। उन्होंने कहां कि आरक्षण के लिए आर-पार की लडाई के लिए भी तैयार है लेकिन जो सरकार समाज का साथ देगी समाज भी उसी सरकार के साथ है। प्रहलाद खटाणा ने बताया कि सरकार ने गुर्जर समाज के साथ हर बार छलावा किया है। पांचू प्रतिशत आरक्षण को लेकर सरकार ने समाज के साथ जो विश्वासघात किया है। उन्होंने कहां कि उसको लेकर समाज आगे आने विधानसभा चुनावों में सरकार को अपनी ताकत दिखाएगा। उन्होंने बजट पर बोलते हुए कहां कि इस बजट से ना किसानों को कोई फायदा मिला है ना ही युवाओं को सरकार से हर वर्ग पीडित नजर आ रहा है। सभा को धर्मपाल भाटी, मुकेश गुर्जर एवं महावीर पोसवाल सहित अन्यों ने संबोधित किया। इसके बाद समाज के लोग बैनरतलै गांधी चौक से रैली के रूप मे सरकार के खिलाफ नारेबाजी एवं रोष प्रकट करते हुए कलेक्ट्रेट पहुचे।जहाँ पहले से ही कलेक्ट्रेट के गेट पर ज्ञापन लेने के लिए मौजूद एसडीएम अल्का विश्नोई को पुलिस उपाधिक्षक गोपाल लाल शर्मा की उपस्थिति में सीएम के नाम ज्ञापन सौंपा गया

गुर्जर समाज की प्रमुख मांगो में कृमश…
1.सवैंधानिक व्यवस्था के अनुसार 50 प्रतिशत के अंतर्गत 5 प्रतिशत आरक्षण दिया जाए।
2. गुर्जर रेजिमेंट का गठन किया जाए।
3. हर जिला मुख्यालय पर देवनारायण बालिका छात्रावास खोला जाए।
4.देवनारायण बोर्ड के अध्यक्ष की नियुक्ति शीघ्र की जाए।
5.देवनारायण बोर्ड द्वारा दी जाने वाली छात्रवृत्तियों को उच्च शिक्षा में लागू किया जाए।
6.पूर्ववर्ती सरकार द्वारा एक प्रतिशत आरक्षण लागू करने के साथ ही यह घोषणा की गई थी, कि सरकारी नौकरियों में चार प्रतिशत पद आरक्षित रखे जाएंगे, वो बैकलॉग पूरा किया जाए।
7.आंदोलन में हुए शहीद परिवार को सरकारी नौकरी दी जाए।
8.सरकार के एसबीसी से एमबीसी में दिए गए एक प्रतिशत आरक्षण का लाभ भर्ती एवं नियुक्तियों में दिया जाए।
सहित 17 सूत्री मांग पत्र सरकार के नाम सौंपा गया। ज्ञापन देने वालों में शिवा खटाणा, बच्चनसिंह गुर्जर, किशोरसिंह टांई, रवीन्द्र गुर्जर, महेन्द्र गुर्जर,एडवोकेट सुरेश गुर्जर सोती एवं महावीर पोसवाल सहित सैकड़ों की संख्या में समाज के युवा एवं बुजुर्ग लोग उपस्थित थे।