स्टूडेंट्स नहीं शिक्षकों की जान पर आफत

0

महराजगंज : उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यूपी बोर्ड की परीक्षाओं में नकल रोकने के सख्त इंतजाम किए हैं। योगी के इस कदम से स्टूडेंट्स में तो हड़कंप मचा ही है, अब टीचर्स की भी जान पर आफत बन आई है। दरअसल नकल होने से नाराज कुछ छात्रों ने टीचर्स को जान से मारने की धमकी दे डाली है। योगी सरकार के नकल विहीन परीक्षा कराने के फरमान के बाद एकतरफ तो प्रदेश में लाखों छात्रों ने परीक्षा ही छोड़ दी तो दूसरी ओर नकल न होने से नाराज छात्र और अभिभावक अब टीचर्स को जान से मारने की धमकी भी देने लगे हैं। जी हां मामला महराजगंज जिले के सैय्यद अहमद खां जनता इंटर कॉलेज का है, जहां स्कूल की सख्ती के चलते नकल न कर पाने से नाराज छात्रों ने एक शिक्षक को जान से मारने की धमकी दे डाली। जिसके बाद शिक्षक ने अपनी जानमाल की सुरक्षा के लिए पुलिस का दरवाजा खटखटाया है। सवाल यह है कि आखिर जब शिक्षक ही सुरक्षित नहीं हैं तो कैसे नकल विहीन परीक्षा होगी। उधर शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने मामले को सज्ञान में लेते हुए जांच शुरू कर विद्यालय पर सुरक्षा बढ़ा दी है। जानकारी के मुताबिक, कुछ टीचर्स को सचल दस्ते का प्रभारी बनाया गया था और वे स्कूल के गेट पर स्टूडेंट्स की चेकिंग कर रहे थे। उसी दौरान कुछ स्टूडेंट्स ने नकल रोकने के लिए ड्यूटी दे रहे टीचर्स को जान से मारने की धमकी दी। प्रिंसिपल ओबैदुल्ला खान ने बताया कि टीचर्स ने उन्हें स्टूडेंट्स द्वारा धमकी दिए जाने की सूचना दी। उसके बाद उन्होंने शिकायती पत्र लिखकर उप जिलाधिकारी को भेजा, लेकिन अवकाश होने के कारण उनका शिकायती पत्र रिसीव नहीं हो पाया। फिर प्रिंसिपल खुद शिकायती पत्र लेकर थाने पर गए और शिकायत दर्ज कराई। प्रिंसिपल ने बताया कि धमकी मिलने के बावजूद परीक्षा में नकल बिल्कुल नहीं होने दिया जा रहा और स्टूडेंट्स को जरा भी रियायत नहीं दी जा रही है। हालांकि यह कहते हुए वह इस बात को भी स्वीकार करते हुए नकल की बिल्कुल छूट न दिए जाने के चलते स्टूडेंट्स में आक्रोश है। महाराजगंज के अपर पुलिस अधीक्षक आशुतोष शुक्ला ने बताया कि उन्हें इस तरह की शिकायत मिली है कि टीचर्स को स्टूडेंट्स के कुछ अभिभावकों ने जान से मारने की धमकी दी है। अब तक धमकी देने वालों की पहचान नहीं हो सकी है। केस दर्ज कर मामले की तफ्तीश की जा रही है। जिन टीचर्स को धमकी दी गई, उनमें से एक शिक्षक मोहसिन जमां ने बताया कि वह दो अन्य शिक्षकों के साथ गेट पर स्टूडेंट्स की चेकिंग कर रहे थे। तलाशी के दौरान बाहर समूह में खड़े छात्रों के बीच से किसी ने अध्यापकों को रिवॉल्वर से मारने की धमकी दी। शिक्षक के मुताबिक, उन्हें लगातार कई दिन जब इस तरह धमकियां मिलीं तो उन्होंने प्रिंसिपल से इसकी शिकायत की।