दूसरे गांव के स्कूल में जाने को मजबूर

0
32

फ़िरोज़ खान
बारां 11 जून । किशनगंज ब्लॉक की ग्राम पंचायत सिमलोद के गांव भीलान महोदरी भीलान महोदरी के 130 बच्चे जाते है दूसरे गांव पढ़ने। गांव में भील व गुर्जर समुदाय के 95 परिवार निवास करते है, इसमें भी भील समुदाय के परिवारों की संख्या ज्यादा है।

जाग्रत महिला संगठन की मोहनी बाई ने बताया कि इस गांव में स्कूल नही है । इस कारण यहाँ के 130 बच्चे एक किलोमीटर की दूरी तय कर राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय नाथन महोदरी में पढ़ने जाते है । जबकि जिस गांव में स्कूल है वहां के 30 से 40 बच्चो का नामंकन है । भीलान महोदरी के बच्चो की संख्या ज्यादा होने के बाद भी इस गांव में स्कूल नही है और यहाँ के बच्चो को अन्य गांव में स्थित स्कूल में जाना पड़ता है ।
उंन्होने बताया कि बारिश होने पर इस गांव के बच्चे स्कूल नही जा पाते है, रास्ते मे पानी भर जाता है । इस स्कूल में चार गांवों के बच्चे पढ़ने जाते है । इस गांव के समुदाय के लोग मजदूरी पर निर्भर है ।