हर माह की 9 तारीख को मनाया जाएगा सुरक्षित मातृत्व दिवस

0
36

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान की शुरूआत गुरुवार से

pragnent lady

        उदयपुर, 8 जून राज्य के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों व जिला अस्पतालों में हर शुुक्रवार को मनाया जाने वाला सुरक्षित मातृृत्व दिवस अब प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में भी मनाया जाएगा। जिसका प्रारंभ प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृृत्व अभियान के नाम पर 9 जून सेे होगा। वर्तमान में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर आयोजित सुरक्षित मातृत्व दिवस को यथावत रखते हुए द्वितीय सप्ताह में आयोजित होने वाले सुरक्षित मातृत्व दिवस को 9 तारीख को  प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व दिवस के रूप में मनाया जाएगा।

        गर्भवती महिला को गुणवत्तायुक्त प्रसव पूर्व जांच सुविधाएं सुनिश्चित करने के लिए भारत सरकार द्वारा सम्पूर्ण देश में प्रत्येक माह में एक निश्चित दिन 9 तारीख को अभियान के रूप में सेवाएं प्रदान की जाएगी।

यदि माह की 9 तारीख को रविवार अथवा कोई छुट्टी का दिन है तो  अगले कार्य दिवस पर इसका आयोजन होगा।  यह सेवाएं स्वास्थ्य संस्था पर दी जा रही नियमित प्रसव पूर्व सेवाओं के अतिरिक्त होंगी।  अभियान के दौरान सेवाएं आवश्यक रूप से चिकित्सक अथवा स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ द्वारा दी जाएंगी।

यहां आयोजित होगा अभियान

प्रत्येक माह की 9 तारीख को उदयपुर जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों, जिला अस्पतालों व सेटेलाइट अस्पतालों में यह अभियान आयोजित किया जाएगा।

घटेगी दूरी – मिलेगी सुविधा

अभी तक इसका आयोजन मात्र सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर होता था। इससे दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों में रह रही गर्भवती महिलाओं को इस अभियान का लाभ नहीं मिल पा रहा था। लेकिन अब प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों  पर जांच सुविधा उपलब्ध होने से दूरी कम होगी। इससे ज्यादा से ज्यादा गर्भवती महिलाएं अपने क्षेत्र में ही  चिकित्सा संस्थानों  पर सभी आवश्यक प्रसव पूर्व जांच, ब्लड प्रेशर, हिमोग्लोबिन, युरिन शुुुगर वजन जैसी जांचें निःशुल्क करवा सकेंगी। रिपोर्ट के आधार पर स्त्री रोग विशेज्ञ अथवा चिकित्सक का परामर्श भी निःशुल्क प्राप्त होगा।

जिम्मेदार करेंगे प्रभावी प्रचार

 चिकित्सा संस्थान के जिम्मेदार को संस्थान के मुख्य स्थानाें ओपीडी, आईपीडी, एएनसी कक्ष व बाहर की ओर प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृृ अभियान आयोजन दिनांक व समय लिखवाने की व्यवस्था की गई है।  चिकित्सा संस्थान निर्धारित कक्ष में प्रसव पूर्व जांच के लिए प्रयुक्त उपकरण, फिलडर, हार्ट मॉनिटर, प्रशिक्षण टेबल, साईड पर्दा, खिड़कियाें पर पर्दा, वाश बेसिन, लिक्विड सोप, पानी की सुविधा आदि के प्रबन्ध बेहतर ढंग से सुनिश्चित रहेंगे।  साथ ही वजन मापने की मशीन, थर्मामीटर, बीपी मापने की मशीन युरोस्टिक, स्टेथोस्कोप, फिटोस्कोप उपलब्ध रहेंगे।

नियमित पर्यवेक्षण

अभियान के नियमित पर्यवेक्षण के लिए राज्य स्तर से प्रति माह निर्धारित मॉनिटर आवंटित जिले में आएंगे तथा अभियान की तैयारियों के आकलन के साथ ही चिकित्सा संस्थानों का भ्रमण कर वहां दी जा रही सेवाओं का मूल्यांकन करेंगे। उदयपुर जिले में अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिए जिले में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा नोडल अधिकारी की नियुक्ति की गई है।

        यह होगा लाभ

        इस व्यवस्था से गर्भावस्था और प्रसव के दौरान जोखिम के कारणों को समय पर पता लगाया जा सकेगा। जिससे विभिन्न कारणों से होने वाली मृत्यु को काफी हद तक कम किया जा सकेगा। गर्भवती महिलाओं को समय पर सभी जरूरी चिकित्सकीय सुविधाएं मिलेंगी और समय-समय पर एएनसी और स्वास्थ्य जांच की सुविधा सुलभ होगी।

        सभी सरकारी अस्पतालों में मिलेगी सुविधा

        मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. संजीव टांक ने बताया कि  9 जून गुरुवार से पूरे देश में प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान चलाया जाएगा। जिला अस्पतालों, सेटेलाइट अस्पतालों, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर यह प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान आयोजित किया जाएगा। इस अभियान के दौरान चिकित्सा अधिकारी व स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ अपनी सेवाएं देंगे।  उदयपुर जिले में नौ जून से शुरू होने वाले इस अभियान को लेकर सभी तैयारियों पूर्ण कर ली गई हैं।