कृषि क्षेत्र में भागीदारी के लिए राजस्थान ने किया उद्योगपतियों व किसानों को आमंत्रित राजस्थान सरकार ने फिक्की के साथ चेन्नई में किया रोड शो आयोजित

0
27

fikkyजयपुर , 10 अगस्त। राजस्थान में कृषि एवं सम्बद्ध क्षेत्रों में नए अधिनियमों, प्रोत्साहनों एवं नीतियों पर प्रकाश डालते हुए राजस्थान सरकार के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री राजेन्द्र राठौड़ ने राज्य के कृषि व सम्बद्ध क्षेत्रों में भागीदार बनने के लिए चैन्नई के किसानों एवं उद्योगपतियों को आमंत्रित किया। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री आगामी 9 नवम्बर से 11 नवम्बर तक जयपुर में आयोजित होने वाले ‘ग्लोबलराजस्थान एग्रीटेक मीट-2016 (ग्राम-2016)‘ के लिए बुधवार को चैन्नई में रोड शो के अवसर पर मीडिया को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर राजस्थान सरकार की प्रमुख शासन सचिव, कृषि व बागवानी-श्रीमती नीलकमल दरबारी और राजस्थान के एग्रीकल्चर मार्केटिंग के निदेशक श्री दिनेश यादव भी उपस्थित थे। टैफे लिमिटेड के सीओओ (प्रोडक्ट स्ट्रटेजी एवंकॉरपोरेट रिलेशंस)-श्री टी.आर.केशवन ने उपस्थित लोगों के साथ अपने बेहतरीन अनुभव साझा किए। ‘ग्राम 2016‘ के लिए चैन्नई के सभी औद्योगिक समूहों को आमंत्रित करते हुए चिकिन्सा मंत्री श्री राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि ‘राजस्थान में निवेश के लिए बेहतरीन वातावरण है। राजस्थान में हमारा सिंगल विंडो क्लियरेंस सिस्टम है। राज्य की दो तिहाई आबादी कृषि पर निर्भर है। कुल जीडीपी में राजस्थान का 8 प्रतिशत योगदान है। कुल मिलाकर सम्पूर्ण जीडीपी में कृषि का 31 प्रतिशत, पशुपालन का 10 प्रतिशत भाग है। राजस्थान में कृषि के लिए भारत का सबसे बड़ा भूमि बैंक है। मोदी के 20ः20 विजन के अनुसार कृषक समुदाय के दोगुना होने की उम्मीद है। राजस्थान ने देश में सर्वाधिक एफडीआई को आकर्षित किया है। रिसजेर्ंट राजस्थान में कृषि क्षेत्र में 4000 एमओयू हुए हैं। इस आयोजन के माध्यम से 2 लाख करोड़ का निवेश हासिल किया गया है।‘ श्रीमती नीलकमल दरबारी ने राजस्थान की विकास की विशाल सम्भावित क्षमता और किसानों को प्रदान किए जाने वाले विभिन्न अवसरों का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि ‘राजस्थान में कृषि निर्यात की असीम संभावनाएं है। राज्य की 62 प्रतिशत आबादी कृषि संबंधित क्षेत्रों पर निर्भर है और इनके विकास की आवश्यकता है।  कृषि एवं सम्बद्ध क्षेत्रों में तकनीकी नवाचारों एवं उच्च उत्पादन की प्रथाओं पर फोकस करने के साथ ‘ग्राम 2016‘ का मुख्य उद्देश्य कृषि में सतत विकास के माध्यम से किसानों का आर्थिक सशक्तिकरण सुनिश्चित करना तथा वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुनी करना है। राजस्थान की ओर से प्रेशर सिंचाई, सोलर पम्प, कृषि मशीनरी व फार्म मशीनी करण और प्रोसेसिंग जैसे क्षेत्रों में निवेश के अवसरों को प्रदर्शित किया जाएगा। नीदरलैंड, इजराइल, ऑस्ट्रेलिया, कनाड़ा जैसे व अन्य महत्वपूर्ण देशों की प्रतिभागिता के साथ इस अंतरराष्ट्रीय आयोजन में 50 हजार से अधिक किसान शामिल होंगे। ‘ग्राम‘ में राजस्थान की कृषि क्षमताओं को प्रदर्शित किया जाएगा। यहां नवीनतम कृषि प्रौद्योगिकियों एवं उपकरणों के लाइव डिमोंस्टे्रशन के अतिरिक्त राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय भागीदारों के साथ बी 2 बी एवं बी 2 जी बैठकें होंगी और कृषि की जानकारियों के आदान -प्रदान के लिए कॉन्फ्रेंसेज आयोजित की जाएंगी। बेस्ट एग्री प्रेक्टिसेज एवं नेटवर्किंग सत्रों के आयोजन होंगे जिनमें षि उद्योग से जुड़े लोगों, शिक्षाविदों एवं सरकारी अधिकारियों सहित नीति निर्माताओं के मध्य नेटवर्किंग सैशन शामिल है। दस कृषि जलवायु क्षेत्रों के साथ कृषि क्षेत्र में राजस्थान की मजबूत भूमिका है। गत कुछ समय में राजस्थान सरकार ने कृषि उत्पादकता में सतत् वृद्धि, फसल कटाई के बाद की छीजत कम करने और कृषि आधारित उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए अनेक नीतिगत परिवर्तन कर तकनीकी एवं ढांचागत प्रयास किए हैं।‘ग्राम‘, कम्पनियों एवं सेवा प्रदाताओं को राजस्थान के 50,000 से अधिक किसानों के समक्ष अपनी आधुनिक सेवाओं एवं कृषि एवं सम्बद्ध गति विधियों में प्रचलित ग्लोबल बेस्टप्रेक्टि सेज को प्रदर्शित करने का मंच प्रदान करेगा।