पॉलीथिन मुक्त धार्मिक स्थल,पिछले नौ साल से मंदिर में प्लास्टिक कैरी बैग पर प्रतिबंध

275
76

बालोतरा । समीपवर्ती जसोल गांव स्थित शक्तिपीठ माता राणी भटियाणी मंदिर पॉलीथिन मुक्त धार्मिक स्थल के रूप में देश भर में मिसाल है। मंदिर में पिछले नौ साल से पॉलीथिन का प्रवेश वर्जित है। हर रोज दर्शन के लिए पहुंचने वाले सैकड़ों श्रद्धालुओं को मंदिर के मुख्य द्वार में प्रवेश करते ही प्रसादी, फूलमाला व अन्य सामग्री टोकरी में डालकर ले जाना होता है। पॉलीथिन द्वार पर ही रखवा दी जाती है।
माता राणी भटियाणी मंदिर जसोल में वर्ष 2007 से प्लास्टिक कैरी बैग पर पूर्णतया प्रतिबंध लगा हुआ है। मंदिर परिसर में प्रसाद या अन्य सामग्री ले जाने के लिए श्रद्धालुओं को टोकरी का इस्तेमाल करना होता है। श्रद्धालुओं को टोकरी मिलने में परेशानी नहीं हो, इसके लिए मंदिर ट्रस्ट की ओर से प्रवेश द्वार के समीप सैकड़ों टोकरियां रखी हुई हैं। श्रद्धालुओं के मंदिर में प्रवेश करते ही सुरक्षा गार्ड व अन्य कार्मिक श्रद्धालुओं को प्रसाद, पूजन व अन्य सामग्री टोकरी में डाल मंदिर में ले जाने का कहते हैं। सामान टोकरी में डालने के बाद ही श्रद्धालुओं को मंदिर में प्रवेश की इजाजत दी जाती है।
पिछले नौ साल से मंदिर में प्लास्टिक कैरी बैग पर प्रतिबंध के चलते यहां आने वाले श्रद्धालु भी जागरूक हो गए हैं। अधिकतर श्रद्धालु अब स्वयं ही कैरी बैग मंदिर में नहीं लाते। आसपास के अधिकतर दुकानदार भी पॉलीथिन से परहेज करने लगे हैं।