पकड़ा गया जम्मू-कश्मीर का विभीषण DSP

0
24

पाकिस्तानी सेना के लिए जासूसी करने पर सस्पेंड

जिस पुलिस अफसर पर कंट्रोल रूम की सूचनाओं से देश की आंतरिक और बाह्य सुरक्षा की जिम्मेदारी थी, वह अफसर उन सूचनाओं को सीमा पार भेज पाक को अलर्ट कर रहा था

नई दिल्लीः घर के भेदी लंका ढहा सकते हैं। गृहमंत्रालय ने जम्मू-कश्मीर पुलिस में विभीषण का रोल अदा कर रहे एक पुलिस अधिकारी को तलाश निकाला। तनवीर अहमद नामका यह डीएसपी जम्मू पुलिस और भारतीय सेना के हर कदम की जानकारी पाकिस्तानी सेना को पहुंचाता है। उसकी ड्यूटी श्रीनगर पुलिस कंट्रोल रूम में लगी रही। जिससे हर सूचनाएं उस तक पहुंचती और तनवीर उन्हें पाकिस्तानी कमांडर तक पहुंचाता रहा।

गृहमंत्रालय ने कॉल ट्रेस कर किया खुलासा

सूत्र बताते हैं कि जम्मू-कश्मीर पुलिस और सेना को कुछ समय से महसूस हुआ कि गोपनीय सूचनाएं लीक हो रही हैं। हर कदम की आहट पाकिस्तान भांप रहा है। इस पर गृहमंत्रालय से मदद की गुहार लगाई गई थी। जिस पर राजनाथ सिंह के गृहमंत्रालय ने जम्मू-कश्मीर रीजन की खासतौर से सुरक्षाकर्मियों की फोन कॉल्स सर्विलांस पर लगा दिया। इस दौरान खुलासा हुआ कि डीएसपी तनवीर अहमद के पास खुद को पाकिस्तानी आर्मी का कमांडर बताने वाले व्यक्ति का फोन आया।

कहां कितनी कंपनी फोर्स तैनात है, हर जानकारी देता था तनवीर

जांच में आए नतीजों के मुताबिक तनवीर ने पाकिस्तानी सेना के कथित कमांडर को श्रीनगर में तैनात सुरक्षाबलों और पुलिस की जानकारी दी। बताया कि कहां पर कितनी कंपनी आर्मी और पुलिस की कंपनियां तैनात हैं। इससे पाकिस्तानी सेना उसी हिसाब से अलर्ट रहती।

गृहमंत्रालय ने बैठाई जांच

देश की सुरक्षा से खिलवाड़ से जुड़े इस मामले के बाद गृहमंत्रालय में हड़कंप मच गया। अब डीएसपी के खिलाफ सख्त जांच बैठा दी गई है। क्योंकि अब तक जो बातें सामने आई हैं, वह प्रथमदृष्टया जांच से निकली हैं। अन्य कड़ियों का खुलासा करने की कोशिश है। पता लगाया जाएगा कि कहीं और खाकीवाले तो देश की सुरक्षा से खिलवाड़ नहीं कर रहे हैं। इस पूरे प्रकरण पर जम्मू-कश्मीर पुलिस कुछ खुलकर नहीं बता रहा। सिर्फ पुलिस इसे निलंबन के पीछे सुरक्षा में अनदेखी के आरोप में निलंबन बता रही।