जब ड्राईवर को विदाई देने कि लिए कलेक्टर खुद ही बन गए ड्राईवर

0
29

महाराष्ट्र । महाराष्ट्र के अकोला जिले में सालों तक प्रशासनिक अधिकारियों की गाड़ी चलाते रहे दिगंबर ठाक को शायद ही इस बात का अंदाजा भी नहीं रहा होगा कि जब वो रिटायरमेंट लेंगे तो उनके अधिकारी उन्हें इतना खूबसूरत तोहफा देंगे।

सूत्रों  के मुताबिक अकोला के जिलाधिकारी जी श्रीकांथ ने ड्राइवर दिंगबर को खास और यादगार अंदाज में विदाई देने का मन बनाया। इसलिए नौकरी के अंतिम दिन वह खुद अपनी गाड़ी से दिगंबर को लेने उनके घर पहुंचे और वहां से गाड़ी ड्राइव करते हुए ऑफिस तक आए। दुल्हन की तरह फूलों से सजी लाल बत्ती की कार में दिंगबर को पीछे की सीट पर बैठाया गया और कलेक्टर खुद ड्राइवर बनकर उन्हें ऑफिस तक लेकर आए।
गौरतलब है कि सरकारी ड्राइवर के तौर पर 58-वर्षीय दिगंबर थाक अब तक जिले के 18 कलेक्टरों को दफ्तर तक ले जाते रहे हैं। कलेक्टर श्रीकांत ने कहा, “लगभग 35 साल तक उन्होंने राज्य को अपनी सेवाएं दीं, और सुनिश्चित किया कि कलेक्टर रोजाना दफ्तर तक सुरक्षित पहुंचे। मैं इस दिन को उनके लिए यादगार बना देना चाहता था, और जो कुछ उन्होंने किया, उसके लिए धन्यवाद भी कहना चाहता था”
दिंगबर ने कलेक्टर का धन्यवाद देते हुए कहा कि मैं अपने रिटायरमेंट वाले इस उपहार से काफी खुश और सम्मानित महसूस कर रहा हूं।