69वाँ वार्षिक निरंकारी संत समागम 19, 20 व 21 को

0
97

69वें वार्षिक निरंकारी संत समागम की तैयारियों में जुटे हज़ारों भक्त

दिल्ली । एक बार फिर बसेगा शामियानों का एक विशाल नगर उत्तरी दिल्ली में बुराड़ी रोड तथा आउटर रिंग रोड से सटे मैदानों में जहाँ आयोजित किया जा रहा है 69वाँ वार्षिक निरंकारी संत समागम 19, 20 व 21, नवम्बर, 2016 को और जिसकी तैरारियों के लिए जुटे हैं। संत निरंकारी मिशन के हजारों श्रद्धालु भक्त। यह समागम निरंकारी सत्गुरु माता सविंदर हरदेव जी महाराज की पावन छत्र-छाया में होने वाला पहला वार्षिक निरंकारी संत समागम होगा। इस समागम में देश के कोने-कोने तथा दूर-देशों से लाखों श्रद्धालु-भक्तों के भाग लेने की आशा है। भारतीय रेलवे द्वारा वार्षिक आय की कुछ सीमा के साथ दिल्ली से 300 कि.मी. या इससे अधिक दूरी से आने वाले श्रद्धालु-भक्तों के लिए किराये में 50 प्रतिशत की छूट प्रदान की गई है। यह समागम निरंकारी बाबा हरदेव सिंह जी महाराज को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिये समर्पित किया जा रहा है। बाबा जी इसी वर्ष 13 मई को कनाडा में मान्ट्रियल के निकट एक कार दुर्घटना में ब्रह्मलीन हो गए थे। समागम का मुख्य विषय होगा ‘‘मानवीयता – एक समर्पित सफर’’ अर्थात समागम के दौरान बाबा जी के उस महान योगदान को स्मर्ण किया जाएगा, जो उन्होंने प्रीत-प्यार, करुणा-दया, सहनशीलता तथा एकत्व जैसे मानवीय गुणों को ना केवल भारत में बल्कि संसार भर में बढ़ावा देने के लिए दिया, जबकि आधार ब्रह्मज्ञान ही रहा। इसी भाव के तहत समागम के अंतिम सत्र में होने वाले कवि सम्मेलन को भी ऐसा ही विषय दिया गया है – ‘‘कर्ज़ चुकाया जा नहीं सकता, हरदेव तेरे अहसानों का’’। समागम स्थल पर तैयारियों का उद्घाटन सद्गुरु माता सविन्दर हरदेव सिंह जी महाराज के कर-कमलों द्वारा 16 अक्तूबर, 2016 को किया गयो। तभी से दिल्ली तथा आस-पास के श्रद्धालु भक्त अलग-अलग क्षेत्रों से एक-एक दिन के लिए आकर सेवा कर रहे हैं। बाहर से भी अनेक श्रद्धालु भक्त एक-एक सप्ताह के लिए योगदान दे रहे हैं।

 यहाँ सेवा को प्रभु भक्ति का एक महत्वपूर्ण साधन माना जाता है। सद्गुरु माता सविन्दर हरदेव जी महाराज लगभग हर रोज़ समागम स्थल पर श्रद्धालु भक्तों को दर्शन देने तथा अपना पावन पवित्र आशीर्वाद प्रदान करने के लिए आते हैं। इससे भक्तों को और भी उत्साह मिलता है। उन्हें लगता है हमारी सेवा परवान हो गई हैं। प्रबन्धकों को भी मार्गदर्शन मिल जाता है। समागम स्थल पर सत्संग पंडाल के अलावा रिहायशी टेंट भी लगाए जा रहे हैं जहाँ बाहर से आने वाले श्रद्धालु भक्तों के लिए ठहरने तथा लंगर इत्यादि की व्यवस्था होगी। अलग-अलग स्थानों पर कुछ कैन्टीनें भी खाने-पीने की वस्तुएं रियायती दरों पर उपलब्ध कराएंगी। मैंदानों में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखा जाएगा। सत्संग पंडाल के गिर्द संत निरंकारी मण्डल के विभिन्न विभागों तथा संत निंरकारी चैरिटेबल फाउंडेशन इत्यादि के कार्यालय भी होंगे। प्रकाशन विभाग की ओर से अगल-अलग स्थानों पर स्टाॅल लगाए जायेंगे और विशेष आकर्षण होगा निरंकारी प्रदर्शनी। प्रदर्शनी का एक भाग बाबा हरदेव सिंह जी महाराज को समर्पित होगा। इसके अलावा चण्डीगढ़ के महापुरुषों द्वारा एक बाल प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी जो बच्चों के लिए विशेषतः रूचिकर होगी।