सोनम गुप्ता बेवफा क्यों हुई? केजरीवाल करेंगे जांच

0
57

व्यंग्य

सतीश बेरी , श्री गंगानगर

  • केजरीवाल ने मोदी से की थी मांग
  • प्रधानमंत्री ने उन्हें ही सौंपी जांच की जिम्मेवारी
  • प्रधानमंत्री कार्यालय से सतीश बेरी की रिपोर्ट

गीतांजलि पोस्ट…………नई दिल्ली। सोनम गुप्ता बेवफा क्यों हुई? अब इसकी जांच होगी। आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इस मामले को लेकर प्रधानमंत्री से मिली थी और मांग की थी कि इस संवेदनशील मामले की जांच होनी चाहिये। प्रधानमंत्री ने इस पर तुरंत एक जांच कमेटी का गठन कर दिया और इसका अध्यक्ष भी केरजीवाल को ही बना दिया। एनआईए और सीबीआई के महानिदेशक इस मामले की जांच में उन्हें आवश्यक सहयोग करेंगे।
सोशल मीडिया पर इन दिनों एक ही मुद्दा छाया हुआ है कि आखिर सोनम गुप्ता बेवफा क्यों हुई? इस पर अरविंद केजरीवाल ने पत्रकार वार्ता कर आरोप लगाया था कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नोटबंदी की है। इस कारण सोनम गुप्ता उधारी नहीं चुका पाई होगी और उसको मजबूरन बेवफा होना पड़ा होगा। उन्होंने इस मामले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मांग की थी कि वे तुरंत प्रभाव से इस्तीफा दें ताकि भविष्य में किसी सोनम गुप्ता को बेवफा नहीं होना पड़े।
दूसरी ओर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजयसिंह दिग्गी ने भी पत्रकार वार्ता कर आरोप लगाया था कि प्रधानमंत्री की नोटबंदी के कारण हर वर्ग परेशान है। युवा भी इससे बच नहीं पाये हैं। युवाओं को अब बेवफा होना पड़ रहा है। उनके पास उधारी चुकाने के लिए पैसे नहीं है। उधार नहीं चुका पाने के कारण सोनम गुप्ता अपने प्रेमी से नहीं मिल पायी और उसको बेवफा घोषित करना पड़ा। अगर शीघ्र ही नोटबंदी समाप्त नहीं की गयी तो अनेक नेताओं को भी बेवफा होना पड़ सकता है। जब नोटबंदी ही हो जायेगी। उन्होंने कहा कि पिछले 40 सालों से वे कांग्रेस के सक्रिय नेता हैं। उन्होंने जो अब तक प्राप्त किया था, वो सब ही कागज बनकर रह गया है। उनको राजनीति करने का क्या फायदा हुआ? अब वो राजनीति में सक्रिय नहीं रहेेंगे तो सोनिया गांधी और राहुल गांधी भी उन पर बेवफा होने का आरोप लगा सकते हैं? इस पूरे घटनाक्रम के पीछे नरेन्द्र मोदी की सोची-समझी साजिश है।

modi-hold-arvind-kejriwal2
वहीं कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी ट्विट किया है। उन्होंने कहा, युवाओं को पैंट-कोट वाली सरकार उत्पीडि़त कर रही है। कैश खत्म होने और एटीएम से पैसे निकलने के कारण युवाओं को दोस्तों से उधार मांगना पड़ रहा है। मैंने भी दो घंटे तक लाइन में लगकर चार हजार रुपये निकलवाये और स्वयं को बेवफा होने से बचा लिया। जिसको उधार देना था, उनको पांच-पांच सौ रुपये दिये दिये थे। अब फिर से लाइन में लगकर बाकी उधार देने वालों को भी वापिस कर दूंगा। सोनम गुप्ता को भी लाइन में लगकर एटीएम से पैसे निकालकर अपने दोस्त को पैसे उधार वापिस करने चाहिये ताकि वह अपनी मजबूरियों के कारण बेवफा नहीं हो। उस पर यह इलजाम नहीं लगे।
बसपा सुप्रीमो बहन मायावती ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस अभियान के दौरान रविवार को भी पत्रकार वार्ता कर आरोप लगाया कि पहले कांग्रेस सरकार दलितों का शोषण करती आ रही थी। अब मोदी सरकार युवाओं को दबाने का प्रयास कर रही है। जब युवाओं के मौज-मस्ती के दिन है उस समय नोटबंदी कर दी गयी। अब युवा आखिर कब अपने परिजनों से पैसे लाकर उधारी चुकाते रहेंगे। नोटबंदी खत्म हो ताकि कोई फिर से सोनम गुप्ता बेवफा नहीं हो। उन्होंने मांग की कि प्रधानमंत्री इस मामले की संसद की संयुक्त संसदीय समिति से जांच करवायें और इससे सरकार की बड़ी साजिश का भंडाफोड़ हो सके।
रविवार देर शाम को अचानक ही इस मामले में नया मौड़ आ गया। दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल अपने नायब मनीष सिसोदिया को साथ लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय पहुंच गये। दोनों ने मोदी से मिलने का समय नहीं मांगा हुआ था। उनके कार्यालय के प्रधान सचिव बृजेश मिश्र ने उनकी मुलाकात होने से इन्कार कर दिया तो केजरीवाल ने कार्यालय के बाहर ही धरना दे दिया। इसके बाद मजबूरन मोदी को उन्हें वार्ता के लिए बुलाना पड़ा।
अरविंद केजरीवाल ने बताया कि नोटबंदी के कारण युवाओं को मजबूरियों के चलते बेवफा होना पड़ रहा है। अब सोनम गुप्ता बेवफा हुई हैं? ऐसा क्यों हुआ है? इसकी जांच होनी चाहिये। मोदी ने तुरंत प्रभाव से मिश्र को आदेश दिया कि तुरंत प्रभाव से केजरीवाल की अध्यक्षता में कमेटी का गठन किया जाये और इसमें एनआईए और सीबीआई के महानिदेशकों को शामिल कर जांच करवायी जाये। अमेरिका के राष्ट्रपति ओबामा से भी बात कर एफबीआई से भी आवश्यकतानुसा मदद ली जाये। इस मामले का पता चलना ही चाहिये कि सोनम गुप्ता को आखिर कितना भुगतान करना था जो उन्हें बैंक से नहीं मिला और उनको बेवफा होना पड़ा। अरविंद केजरीवाल ने इसके बाद पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि आवश्यकता होने पर वे सोनम गुप्ता को दिल्ली सरकार की ओर से एक करोड़ रुपये का चैक देेंगे ताकि उस पर बेवफा होने की लगी तोहमत खत्म कर सकें। इसके अलावा कोई अन्य सोमन इस तरह की प्रताडऩा से नहीं गुजरे, इसके लिए भी वे प्रधानमंत्री को सुझाव देंगे।