देश का उपभोक्ता हो रहा गुमराह

890

गीतांजलि पोस्ट …..श्रेयांस….नमस्कार साथियो हमारे देश का उपभोक्ता प्रतिदिन गुमराह होता है क्योंकि वो भावुक है और भावुकता में आये दिन ऐसे ही कदम उठाता है जिससे वो शीघ्र ही करोड़पति होने के सपने देखने लगता है और फिर कहानी शुरू होती है ठगी के शिकार होने की देश में अनेक कम्पनी नित नए नए सब्जबाग दिखा कर उलझाने का चक्कर चलाती नजर आती है और अच्छे अच्छे उनके जाल में फंस जाते है कई कम्पनी सामान बेचने के बहाने सब्ज बाग दिखाती है इतना बेचो इतनो कमिशन ,कई चैनल बनाने का  कह कर उलझाती है तो कोई अन्य संसाधनों का जिक्र करती नजर आती है देश में अनेको ऐसी कम्पनिया आज तक आयी जिनमें यहाँ की जन मेदिनी ने अपने खून पसीने की कमाई को इस मकड़ जाल में फंसकर गंवाते देखा है पिछले कुछ दिनों से राजस्थान के अनेक जगहों पर कुछ रूपये दो फिर लॉटरी निकालने का चलन प्रचलन में आया बेतरतीब तरीके से लोगो से इन लोगो ने भी  खूब इक्कठा किया कुछ दिन प्रतिदिन यु ही चलता चपत लगती देख ये लोग गायब हो जाते है पिछले दिनों श्री गंगानगर की ऐसी ही एक कम्पनी ने खूब मॉल उड़ाए फिर गायब हो गए भोली जनता फिर मुर्ख बनी इन लोगो के समारोह  भी बड़े बड़े होते है बड़े लोग भी इनकी तारीफों के पूल बांधते नजर आते है क्योंकि उन्ही के हाथों से पुरस्कार वितरण करवाये जाते है और प्रतिष्टित लोगो को बुलाया जाता है जिससे लोगो में विश्वास बना रहे और लोग जुड़ते रहे पूर्व में ऐसे तरीको से लोगो की कमाई का हिस्सा ले जाने वाले लोगो के सहारे ही आज कोर्ट के सहारा ले कर जी रहे है अभी एक नई बयार चल पड़ी है जिसमे जनता फिर उलझी है क्युकी जमाना मोबाईल का है और सभी के हाथ में मोबाईल  किसी ने फुर्सत में दिमाग लगाकर फिर कम्पनी खड़ी की ओर निकल पड़े दुनिया को ऑन लाइन पैसा कमाने का कह कर फिर जनता है कि बिना कुछ समान लिए एक बार फिर अपना पैसा दांव पर लगाकर चेनल बनाकर कम्पनी को पैसा देने को उतारू हो रहे है क्योंकि आज की बेरोजगार जनता भी नही चाहती मेहनत करना क्योकि हालातों के मद्देनजर उसे तुरंत कुछ पाना है और नही मिलने पर फिर अपना सा सर पकड़कर बैठना लेकिन ये हमारे नजीर में शामिल हो चूका है इससे बचने का उपाय मात्र अपनी समझ ही हो सकती है ।देश में हजारों की संख्या में उपभोक्ता संगठन काम कर रहे है अब उन्हें चाहिए की ऐसे मामलो में जन जागृति से ही लूटते उपभोक्ताओं को  बचाया जा सकता है पूर्व में कम्पनी मामलात के केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने भी अपने एक उद्बोधन में ऐसी कम्पनियो पर नकेल कसने की जरूरत बताई थी जिससे देश को उपभोक्ताओं को ठगी का शिकार होने से बचाया जा सके ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here