आईपीएस पंकज चौधरी ने की तेलंगाना की जेलों एंव अन्य वेलफ़ेयर के मुद्दों पर चर्चा

1
29

7d588282-e188-4d90-810a-a032b52833e1हैदराबाद । राजस्थान के चर्चित आईपीएस पंकज चौधरी ने तेलंगाना विजीट किया । विजीट के दौरान जेल डीजी , डीआईजी , जेल सुपरिट्नडेंट , जेलर , जवान , कैदी सभी से मुलाक़ात कर जेल व्यवस्था को समग्र रुप से जानने का प्रयास व्यवहारिक एंव धरातलीय आयाम एंव आँकड़ों पर किया। “

चौधरी ने यहाँ के नवाचारों को जानने की कडी में सर्वप्रथम डीजी जेल विनय कुमार सिंह से औपचारिक मुलाक़ात करते हुये तेलंगाना के जेलों एंव अन्य वेलफ़ेयर के मुद्दों पर बात की । चर्चा में जो तथ्य एंव नवाचार सँज्ञान में आये वे सभी उत्साहित करने वाले थे । बात करते है तेलंगाना के चेरनापलली , चंचलगुडा , संज्ञारेडडी आदि जेलों के बारे में तो निम्न नवाचार आकर्षित करते हैं ।

१. कैदिओं को सुबह पीटी परेड ताकि वे चुस्त रहें ।
जेलों के अन्दर कई खेलों का आयोजन , सांस्कृतिक कार्यक्रम आदि ।

२. कैदिओं को अचछा भोजन जो नियमित डायट चार्ट के अनुसार परोसा जाता है ।

३. कैदिओं को जेल के अंदर का प्रबंधन में पुरा उपयोग लेना उनकी रुचि एंव क्षमता के अनुसार ताकि वे मानसिक एंव शारीरिक रुप से फ़ीट रह सकें।

४. क़ैदी सप्ताह में दो बार जेल के अंदर से अपने परिजनों से बात कर सकता है ये सभी काल रिकार्ड किये जाते हैं ।

५. ” फ़ील द जेल ” इसमें कोई भी व्यक्ति ५०० रुपया देकर २४ घंटे एक क़ैदी के रुप में रह सकता है ।

2eb26cd7-2e3b-4033-b112-5140c833ca05६. जेल के क़ैदी विभिन्न व्यवसायिक कार्य भी बखुबी करते है । जैसे फ़र्नीचर , साबुन , अलमारियाँ , मोमबत्ती , अगरबत्ती , पापड़ आदि अन्य कई प्रकार के उत्पादों का निर्माण करना ।

७. कैदिओं को सज़ा उपरातं विभिन्न प्राइवेट नौकरियों में जाने का अवसर ताकि आय का ज़रिया मिल सके ।

८.तेलंगाना जेल द्वारा संचालित पेट्रोल पंप पर कैदिओं के बीच से ही चुने गये क़ैदी इन पेट्रोल पंप पर कार्य कर आजीविका प्राप्त करते हैं।

९.कैदिओं की मनोचिकित्सको द्वारा नियमित अंतराल पर काउन्सलिंग ताकि क़ैदी जल्द से जल्द नकारात्मकता से बाहर आकर सामान्य जीवन यापन कर सके , इसके लिए उसमानिया विश्व विधालय से एक्सपर्ट एंव अन्य संस्थाओं के विशेषज्ञ अपनी सेवायें देते हैं।

१०. हार्डकोर कैदिओं की विशेष काउंसलिग व्यवस्था ।

११. चंचलगुडा जेल परिसर में आयुर्वेद गाँव की स्थापना । जिसमें आमजन के साथ पुलिस स्टाफ़ इसका लाभ ले सकता है ।

“पंकज चौधरी ने बातचीत में बताया कि इन सारे नवाचारों के बारे में जयपुर जाकर डीजी जेल , राजस्थान अजित सिहं जी से चर्चा करेंगे साथ में चौधरी ने यह भी बताया कि यदि उन्हें जेल सुधार में योगदान देने का मौक़ा मिला तो वे इन सभी नवाचारों को राजस्थान में भी लागु करने व करवाने में अपनी पुरी ताक़त लगा देंगे । चौधरी ने यह भी कहा कि पुलिस में अचछा लीडर कुछ भी कर सकता है जिससे आमजन को ज़्यादा से ज़्यादा लाभ प्राप्त हो।