रोचक है अजय सिंह से योगी बनने की कहानी

1400
95

mukeshगीतांजलि पोस्ट………..झुंझनूं (मुकेश पारीक) भाजपा के फायरब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ यूपी के नए मुख्यमंत्री बन गए हैं। योगी के नाम पर मुहर लगते ही भाजपाइयों में जश्न का माहौल है। गोरखपुर में उनके नाम के एलान के पहले ही समर्थकों ने एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर बधाई दी। योगी की छवि कट्टर हिंदूवादी नेता के तौर पर मानी जाती है। लव-जिहाद और धर्मान्तरण जैसे मुद्दों पर वह अपने बयान को लेकर कई बार मीडिया की सुर्खियां बनें हैं। आइए जानते हैं उनके बारे में कुछ खास बातें-

योगी आदित्यनाथ का जन्म उत्तराखंड के उत्तरकाशी के एक छोटे से गांव में 5 जून 1972 को हुआ था। उनका बचपन का नाम अजय सिंह बिष्ट था। गोखनाथ मंदिर के महंत अवैद्यनाथ ने गणित से बीएससी करने वाले मेधावी छात्र योगी आदित्यनाथ को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया। सितंबर 2014 में उनके गुरु महंत अवैद्यनाथ के प्राण त्यागने के बाद वह गोरखपुर मंदिर महंत यानी पीठाधीश्वर बने।

योगी का नाम उन सांसदों की लिस्ट में शामिल है जो सबसे कम उम्र में लोकसभा पहुंचे। योगी जब सांसद बने उनकी उम्र महज 26 साल थी। इसके बाद से वह लगातार 1999, 2004, 2009 और 2014 में सांसद चुने गए। पहली बार वह 12वीं लोकसभा के लिए चुने गये।

हिंदू युवा वाहिनी के संस्थापक भी हैं योगी
भाजपा से सांसद होने के अलावा योगी आदित्यनाथ हिंदू युवा वाहिनी के संस्थापक भी हैं। हिन्दू युवा वाहिनी युवाओं का एक सामाजिक, सांस्कृतिक और राष्ट्रवादी समूह है।

2008 में हुआ था जानलेवा हमला
2005 में योगी आदित्यनाथ ने कथित तौर पर 1800 ईसाइयों का शुद्धीकरण कर हिन्दू धर्म में शामिल कराने के कारण चर्चा में रहे। ईसाइयों के इस शुद्धीकरण का काम उत्तर प्रदेश के एटा जिले में किया गया। 7 सितंबर 2008 को योगी आदित्यनाथ पर जानलेवा हमला हुआ था, जिसमें वह बाल-बाल बच गए। यह हमला इतना बड़ा था था कि सौ से अधिक वाहनों को हमलावरों ने घेर लिया और लोगों को लहुलुहान कर दिया।