नवरात्रि के ये टोटके जो बदल देंगे आपकी किस्मत

421
227

गीतांजलि पोस्ट … (पं.मणिकान्त पान्डेय,प्रयाग- इलाहाबाद) नौरात्रो के शुभ समय से शुरू कीजिए ये सरल उपाय-जो प्रेम विवाह धनलाभ दरिद्रता निवारण एवं शीघ्र विवाह कराने में पूर्ण सफल होंगे-

नवरात्रि जहां एक ओर आध्यात्मिक शक्तियां प्राप्त करने का अवसर है वहीं आम जीवन की समस्याओं को सदा-सर्वदा के लिए खत्म करने का भी साधन है। नवरात्रों में किए जाने वाले टोने-टोटके तुरंत असर दिखाते हैं तथा हर समस्या को खत्म कर देते हैं। यही कारण है कि नवरात्रि में त्वरित सफलता पाने के लिए विशेष टोटके किए जाते हैं। तंत्र शास्त्र के अनुसार नवरात्रि में किए गए टोटके जल्दी ही शुभ फल प्रदान करते हैं।आज मैं पंडित मणिकांत पांडेय ज्योतिषाचार्य प्रयाग इलाहाबाद यू पी।आप लोगो को कुछ ऐसे ही सरल टोटके बता रहा हूं।

अचानक धन लाभ के लिए टोटका-

नवरात्रि के दौरान किसी भी दिन एक शांत कमरे में उत्तर दिशा की ओर मुख करके पीले आसन पर बैठ जाएं। अपने सामने तेल के 9 दीपक जला लें। ये दीपक साधनाकाल तक जलते रहने चाहिए। इन नौ दीपकों के सामने लाल चावल की एक ढेरी बनाकर उस पर एक श्रीयंत्र रख लें। इस श्रीयंत्र का कुंकुम, फूल, धूप, तथा दीप से पूजन करें। इस पूरी क्रिया के बाद एक प्लेट पर स्वस्तिक बनाकर उसका पूजन करें। अब इस श्रीयंत्र को अपने घर के पूजा स्थल में स्थापित कर दें तथा शेष सामग्री को नदी में प्रवाहित कर दें। इस प्रयोग से आपको जल्दी ही अचानक धन लाभ होगा।

नौकरी के इंटरव्यू में सफलता का उपाय- नवरात्रि में किसी भी दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि करने के बाद सफेद रंग का सूती आसन बिछाकर उस पर पूर्व दिशा की ओर मुंह करके बैठ जाएं। अब अपने ठीक सामने पीला कपड़ा बिछाकर उस पर 108 मनकों वाली स्फटिक की माला रख दें तथा इस पर केसर व इत्र छिड़क कर माला का पूजन करें।माला को धूप, दीप और अगरबत्ती दिखाकर

“ऊँ ह्लीं वाग्वादिनी भगवती मम कार्य सिद्धि कुरु कुरु फट् स्वाहा”

इस मंत्र का 31 बार जाप करें। इस प्रकार लगातार ग्यारह दिन तक करने से वह माला सिद्ध हो जाएगी। इसके बाद आपको जब भी किसी इंटरव्यू में जाना हो या किसी से मिलने के जाना हो तो इस माला को पहन कर जाएं। ऐसे करने से शीघ्र ही इंटरव्यू तथा अन्य कार्यों में सफलता मिलेगी।

मनपसंद लड़की या लड़के से शादी के लिए टोटका–नवरात्रि के दौरान आने वाले किसी भी सोमवार की सुबह किसी शिव मंदिर में जाएं। वहां शिवलिंग पर दूध, दही, घी, शहद और शक्कर चढ़ाते हुए उसे अच्छी तरह से स्नान कराएं। तत्पश्चात शुद्ध जल चढ़ाएं व पूरे मंदिर में झाड़ू लगाकरउसे साफ करें। अब महादेवजी की चंदन, पुष्प एवं धूप, दीप आदि से पूजा-अर्चना करें। उसी दिन रात 10 बजे बाद अग्नि प्रज्वलित कर“ऊँ नम: शिवाय”मंत्र का उच्चारण करते हुए घी से 108 आहुति दें।अब 40 दिनों तक नित्य इसी मंत्र का पांच माला जप भगवान शिव के सम्मुख करें। इससे आपकी मनोकामना बहुत जल्दी पूर्ण होगी और आपकी मनपसंद जीवनसाथी से शादी होगी।

पति-पत्नी के बीच संबंधों की अनुकूलता के लिए- यदि पति-पत्नी के बीच आपसी संबंध अच्छे न हो तो नवरात्रि में इस प्रयोग को करें। नवरात्रि के किसी भी दिन स्नान आदि कर निम्नलिखित मंत्र को पढ़ते हुए 108 बार अग्नि में घी से आहुतियां दें। इससे यह मंत्र सिद्ध हो जाएगा। इसके बाद रोजाना नित्य सुबह उठकर पूजा के समय इस मंत्र का21 बार जप अवश्य करें। यदि संभव हो तो अपने जीवनसाथी से भी इस मंत्र का जप करने के लिए कहें। इससे जीवन भर आप दोनों के बीच मधुर संबंध बने रहेंगे।

मंत्र-

रसब नर करहिं परस्पर प्रीति। चलहिं स्वधर्म निरत श्रुति नीति।।

धनी बनने के लिए टोटके-

1-नवरात्रों में एक पीपल के पत्ते पर राम का नाम लिखें तथा साथ में कुछ मीठा रखकर हनुमानजी की प्रतिमा के आगे अर्पण करें। यह उपाय लगातार नौ दिन करना है। जल्दी ही धन लाभ होगा।

2-नवरात्रि में किसी भी दिन भगवान शिव को सुबह स्नान करने के बाद विधिवत पूजा-अर्चना कर चावल तथा बेलपत्र चढ़ाएं। जल्दी ही धन आना शुरू हो जाएगा।

कुंवारे लड़के-लड़कियों के शीघ्र विवाह के लिए उपाय- नवरात्रि में शिव-पार्वती का एक चित्र अपने पूजास्थल में रखें और उनकी विधिवत पूजा-अर्चना करने के पश्चात निम्नलिखित मंत्र का 3, 5 अथवा 10 माला जप करें। जप के पश्चात भगवान शिव से विवाह में आ रही बाधाओं को दूर करने की प्रार्थना करें। इस मंत्र के प्रभाव से जल्दी ही विवाह के आसार बन जाते हैं।

मंत्र-

ऊँ शं शंकराय सकल-जन्मार्जित-पाप-विध्वंसनाय, पुरुषार्थ-चतुष्टय-लाभाय च पतिं मे देहि कुरु कुरु स्वाहा।।

मनपसंद लड़के से शादी के लिए टोटका- नवरात्रि के दौरान किसी भी दिन अपने आस-पास स्थित किसी शिव मंदिर में जाएं। वहां भगवान शिव एवं मां पार्वती पर जल एवं दूध चढ़ाएं और पंचोपचार (चंदन, पुष्प, धूप, दीप एवं नैवेद्य) से उनका पूजन करें। अब मौली से शिव पार्वती के मध्य गठबंधन करें। तत्पश्चात वहीं पर बैठकर लाल चंदन की माला से निम्नलिखित मंत्र का जाप 108 बार करें-

हे गौरी शंकरार्धांगी। यथा त्वं शंकर प्रिया। तथा मां कुरु कल्याणी, कान्त कान्तां सुदुर्लभाम्।।

इसके बाद तीन माह तक नित्य इसी मंत्र का जप शिव मंदिर में अथवा अपने घर पर करे।

ज्योतिषाचार्य-
पं.मणिकान्त पान्डेय, प्रयाग- इलाहाबाद