महिला गरिमा हेल्पलाइन ने मुक्त कराये तीन बाल श्रमिक

1599
297

img-20171013-wa0009
गीतांजलि पोस्ट…..(पंकज शर्मा) तमिलनाडु:- तमिलनाडु के एक गरीब मजदुर कृष्णदास जिनके 4 बच्चे हैं जिसमें से 3 बच्चों को ठेकेदार ने बंधक बना कर कृष्णदास एवम् उनकी पत्नी को काम से निकाल दिया।
तमिलनाडु के पल्सर सिटी में स्थित है KPS प्राइवेट लिमिटेड कंपनी जिसमें अपनी पत्नी के साथ मजदूरी का काम करते थे कृष्णदास जी जिनके 4 बच्चे हैं दो बेटी और दो बेटे मजदूरी करके अपने बच्चों और परिवार का पेट पालते थे।कंपनी में एक ठेकेदार था जिसने इनकी 3 महीने की मजदूरी रोक ली थी।कृष्णदास जी ने जब अपना हिसाब माँगा तो ठेकेदार ने कृष्णदास जी की 13 साल की बड़ी बेटी के साथ 2 छोटे बच्चों को अपनी गिरफ्त में लेकर बिना किसी हिसाब के डरा धमका कर कंपनी से निकाल दिया।उस समय कृष्णदास जी की पत्नी गर्भवती थी।धमकी मिलने और अनपढ़ होने की वजह से पुलिस थाने भी नहीं जा सके।जेब में पैसा नहीं होने और काम नहीं मिलने की वजह से कई दिनों तक भीख भी मांगनी पड़ी।कुछ दिन बाद कृष्णदास जी अपनी पत्नी के साथ ट्रेन से जयपुर आ गए।
वहां पर ठेकेदार इनकी बड़ी बेटी से दिनभर घर और कंपनी का काम करवाता था और छोटे बच्चों पर अत्याचार करता जब वो बच्चे रोते तो उनके शरीर को सिगरेट से जलाता था जिसके निशान आज भी उनके शरीर पर हैं और अत्याचार की दास्ताँ बयाँ करते हैं।
तमिल भाषा जानने और हिंदी भाषा नहीं जानने के कारण जयपुर में भी इनके दुःख को समझने वाला कोई नहीं था।फिर कृष्णदास जी और उनकी पत्नी गरिमा हेल्पलाइन पहुँचे और वहां मेडम के सामने अपनी आपबीती सुनाई।मेडम को उनकी भाषा समझने में परेशानी तो हुई फिर भी उनकी आपबीती सुनने के बाद मेडम को बहुत दुःख हुआ।फिर *गरिमा हेल्पलाइन* के द्वारा इस केस के सम्बन्ध में चाइल्ड हेल्पलाइन को लेटर दिया गया।चाइल्ड हेल्पलाइन ने तमिलनाडु चाइल्ड हेल्पलाइन को लेटर भेजा गया।इस प्रकार 2 महीने की सख्त कार्यवाही और अथक प्रयास के बाद कृष्णदास जी के बच्चों को मुक्त करवाया गया और ठेकेदार पर कार्यवाही करवाकर जेल भिजवाया।
आज कृष्णगोपाल जी अपने चारों बच्चों के साथ जयपुर में ज्योतिनगर में रहते हैं। हिंदी भी सीख ली है और बच्चों को सरकारी स्कूल में भर्ती करवा दिया है और मजदूरी करते हैं। *गरिमा हेल्पलाइन* से मेडम समय समय पर उनसे मिलती भी रहती है।आज ऐसी हेल्पलाइन और संस्थाओं की वजह से ही समाज में गरीब और असहाय लोगों को न्याय मिल रहा है।
जय हिन्द,जय भारत