अपनी बदकिस्मती पर आँसु बहाता देवयानी सरोवर

367
394
गीतांजलि पोस्ट……(विनय शर्मा) सांभर लेक:- जयपुर जिले का सांभर क़स्बा जो कि विश्व की खारे पानी की सबसे बड़ी झील के नाम से मशहूर हैं। यहाँ सैलानियों के लिए घूमने को बहुत जगह हैं। जिनमे से सबसे प्रमुख है सांभर झील के साथ “देवयानी सरोवर”। देवयानी को सब तीर्थों की नानी भी कहा जाता हैं। सांभर को सरकार द्वारा पर्यटन नगरी का दर्जा भी दिया गया हैं। इसके साथ ही सांभर को पर्यटन नगरी के रूप में विकसित करने के लिए सरकार द्वारा करोड़ों रूपये भी दिए जा रहे हैं। मगर इतना पैसा आने के बावजूद भी आज यह ऐतिहासिक सरोवर सूखने की कगार पर हैं। यह सरोवर आज भी अपनी बदकिस्मती पर आँसु बहा रहा हैं।
vinay
इस ऐतिहासिक सरोवर में डुबकी लगाने के लिए हजारों श्रदालु सांभर आते हैं। मगर उन्हें इस सरोवर में स्नान करके पुण्य कमाने को पानी ही नहीं मिलता हैं। श्रदालु इस सरोवर में स्नान करके यहाँ चारों तरफ बने चौबीस मंदिरों में दर्शन करना अपना सौभाग्य समझता हैं। मगर पानी के अभाव में उनके हाथ निराशा ही लगती हैं।
vinay-2
सरकार द्वारा करोड़ों रूपये देवयानी सरोवर के लिए स्वीकृत किये गए है और इस सरोवर में पानी की आवक होना सबसे मुख्य कार्य माना हैं, मगर इस सरोवर में पानी की आवक आजतक नहीं हो पाई हैं। आखिर क्या कारण है कि इतना पैसा आने के बाद भी इस सरोवर में पानी आजतक क्यों नहीं आ पाया? सरकार के उन करोड़ों रुपयों का क्या हुआ जो देवयानी सरोवर के लिए दिए गए थे?