हम जिन्दगी चाहते हैं तो ट्रेफिक नियमों का पालन करें- मधु जाजू

0
52

गीतांजलि पोस्ट…
भीलवाड़ा। (का. सं.)अगर हम जिन्दगी चाहते हैं तो स्वयं ट्रेफिक नियमों का पालन करें और दूसरों को भी प्रेरित करे। जीवन उपयोगी सेवाओं में ट्रेफिक सेवाओं को उच्च वरीयता दी गई है, सावधानी हटी दुर्घटना घटी – यह बात एडवोकेट प्रहलाद राय व्यास एवं श्रीमती मधु जाजू ने उपभोक्ता अधिकार समिति राजस्थान द्वारा वर्ल्ड फादर्स डे के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम “स्वर्गीय श्री रामजस सोडाणी स्मृति – उपभोक्ता सड़क सुरक्षा मित्र पुरस्कार ” भीलवाड़ा शहर ट्रेफिक इंचार्ज राजस्थान पुलिस के सब इंस्पेक्टर महावीर प्रसाद राव को भेंट करते हुए मुख्य अतिथि के रूप में कही।

समारोह में विशिष्ठ अतिथि के रूप में सुनील राठी ने कहा कि आदमी आराम से चले – दुर्घटना से देर भली! विशिष्ठ अतिथि रतन प्रजापति एवं सरदार इकबाल सिंह ने कहा कि ट्रेफिक नियमों के अनुपालना की जिम्मेदारी सरकार के साथ साथ आम नागरिकों की भी होती हैं, सभी ट्रेफिक नियमों का पालन करें यह जरूरी हैं।

यह जानकारी देते हुए उपभोक्ता अधिकार समिति राजस्थान के मानवाधिकार प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अशोक सोडाणी ने बताया कि हमारे भारत में रोजाना 360 से अधिक व्यक्तियों की मृत्यु तथा प्रति वर्ष 1 लाख 30 हजार से अधिक व्यक्तियों की मृत्यु सड़क दुर्घटनाओं में हो जाती हैं जो बहुत ही चिन्ता जनक है । इन दुर्घटनाओं में कमी लाने का एक ही उपाय है – स्व अनुशासन और जो भी व्यक्ति या संस्थान इन सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए कार्य कर रहे हैं उनका अभिनन्दन करना हमारा उत्तरदायित्व हैं।

भीलवाड़ा शहर ट्रेफिक इंचार्ज सब इंस्पेक्टर महावीर प्रसाद राव ने इस अवसर पर कहा कि यह सम्मान उनका नहीं है बल्कि पूरे ट्रेफिक पुलिस स्टाफ का है, हमें सर्दी, गर्मी, बरसात में आम जनता को सेवाएं देनी होती है और नियमों की पालना करवाने के लिए आम आदमी से आमने सामने होना होता है जिससे प्रायः ट्रेफिक पुलिस की आलोचना होती हैं, अच्छा लगता है जब जनता पुलिस के कार्य की कीमत समझती है और उनका सम्मान करती हैं! आम आदमी को समझना पड़ेगा कि जिन्दगी बहुत कीमती हैं और उसे खुद को सड़क नियमों की पालना करनी चाहिए, ट्रेफिक पुलिस सख्ती करती हैं या चालान बनाती हैं तो उसका उद्देश्य एक ही है और वह है आपकी जिंदगी बचाना।
इस अवसर पर ट्रैफिक पुलिस स्टाॅफ एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।