कौन हैं मदन लाल सेनी जो सभालेगे राजस्थान की कमान

0
48

जयपुर(मुकेश पारीक) राजस्थान में भाजपाऋ प्रदेश अध्यक्ष को लेकर पिछले करीब 74 दिनों से चली आ रही पशोपेश की स्थिति आज पूरी तरह से स्पष्ट होती दिखाई दे रही है। इस मामले में ताजा अपडेट के मुताबिक, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष को लेकर मदनलाल सैनी के नाम पर सहमति बन गई है और संभवतया आज शाम को तक इसकी घोषण कर जा सकती है।

पार्टी सूत्रों के अनुसार, फोन पर संगठन मंत्री रामलाल ने राजे से बात कर सैनी के नाम की सहमति ले ली है और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने फोन कर सांसद सैनी को तैयार रहने को कहा है। सैनी के नाम को उत्तर-प्रदेश प्रभारी ओम-माथुर ने आगे बढ़ाया था। बता दें कि हाल ही में मदनलाल सैनी को मार्च के महीने में राजस्थान से राज्यसभा की 3 सीटों के लिए द्विवार्षिक चुनाव में निर्विरोध निर्वाचित किया गया था। इस दौरान उनके साथ किरोड़ी लाल मीणा एवं भूपेन्द्र यादव भी निर्विरोध निर्वाचित हुए थे।

गौरतलब है कि राजस्थान में भाजपा के निर्वतमान प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी के इस्तीफे के बाद से ही प्रदेशाध्यक्ष को लेकर पैच फंसा हुआ था। इस मसले में सबसे पहले गजेन्द्र सिंह शेखावत का नाम सामने आने के बाद से ही लगातार पशोपेश की स्थिति बनी हुई थी। इसको लेकर सूबे की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की पार्टी आलाकमान से लगातार बैठकों एवं मुलाकातों का दौर चलता रहा, लेकिन करीब ढाई महीने गुजर जाने के बावजूद इस मसले का हल निकलता नहीं दिख रहा था।

ढाई महीने की लगातार कवायद के बाद आखिरकार आज शाम को अचानक से मदनलाल सैनी के नाम पर सह​मति बनने की जानकारी सामने आई, जिसके साथ ही राजस्थान भाजपा प्रदेशाध्यक्ष मसले का हल निकलता दिखाई दे रहा है। हालांकि अभी तक पार्टी की ओर से कोई औपचारिक ऐलान नहीं किया गया है, लेकिन मदनलाल सैनी के नाम पर सहमति बनने के बाद अब संभवतया आज शाम को 6 बजे तक इसकी घोषणा होने की उम्मीद जताई जा रही है।

कौन है मदनलाल सैनी :
मदनलाल सैनी का 13 जुलाई 1943 को सीकर में जन्म हुआ और वे छात्र जीवन में ही ने सिर्फ एबीवीपी से जुड़े, बल्कि एबीवीपी के प्रदेश मंत्री भी रहे। 1952 में वे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़े और उन्होंने बीए, एलएलबी की शिक्षा हासिल की है। सैनी संघ पृष्ठभुमि से आने वाले भाजपा के वरिष्ठ नेता हैं। वे वर्तमान में राजस्थान से राज्यसभा सांसद हैं। वे राजस्थान विधानसभा में वर्ष 1990 से 1992 तक उदयपुरवाटी से विधायक रहे हैं और बीजेपी के तीन बार प्रदेश महामंत्री रहे हैं। इसके साथ ही वे अनुशासन समिति के सदस्य भी रहे हैं।