स्मार्ट सिटी की आड में पनपते घोटाले

0
45

गीतांजलि पोस्ट…
राजस्थान में जयपुर सहित विभिन्न शहरों में स्मार्ट सिटी परियोजनाए, सौन्दर्यकरण के कार्य और अन्य विकास योजनाए चल रही हैं जिनकी समय-समय पर मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे जांच करते हुए अधिकारियों को निर्देश देती हैं कि यह काम तयशुदा समय पर पूरा होना चाहिये जो सही भी हैं लेकिन पिछले कुछ समय में स्मार्ट सिटी परियोजनाए, सौन्दर्यकरण के कार्य और अन्य विकास योजनाओं की जो रिेपोर्ट सामने आ रही हैं उससे लगता हैं यह काम ज्यादा समय तक चलने वाला हैं इसका ताजा उदाहरण द्रव्यवती रिवर फ्रंट परियोजना हैं जिसके निर्माण कार्य की खामियां हाल ही में हुई पहली बरसात में ही नजर आने लगी हैं। इसका निर्माण कार्य कही ध्वस्त हो गया तो कही निर्माण कार्य में दरार आ गयी तो कही पर यह टूट गया इसी प्रकार सौन्दर्यकरण के कार्य के अन्तर्गत जयपुर में गुलाबी रंग करवाया जा रहा हैं वह भी अभी से ही पपडी के रूप में गिरने लगा हैं तो कही बरसात में बहने लगा हैं। यह काम करने वाले मजदूरों, ठेकेदरों की कमी हैं या इंजिनियरों की कमी हैं या निर्माण कार्य में लिये जाने वाले मेटेरियल की कमी हैं जिसके कारण निमार्णाधीन कार्य ही उखड रहा हैं इन सबको देखकर तो ऐसा लगता हैं कि स्मार्ट सिटी परियोजनाए किसी घोटाले की भेट चढ गया हैं जो अपने स्वार्थ के लिये सरकार को चूना लगा रहा हैं। सरकार को बन्द कमरों में अधिकारियों से कार्य के संबधित मिटींग लेने के साथ-साथ घोटालों से बचने के लिये नयी टेक्नालोजी का सहारा लेना चाहिये, जहां भी निर्माण कार्य चल रहा हो वहां सीसीटीवी केमरे लगाने चाहिये जिससे सारी हकिकत सामने आ जाये कि कौन क्या कर रहा हैं। ऐसा करने से भ्रष्टाचार और घोटाला करने वालों पर लगाम लगायी जा सकती हैं।

रेणु शर्मा,जयपुर
संपादक -गीतांजलि पोस्ट साप्ताहिक समाचार-पत्र