धौलपुर एसएनसीयू बना गंभीर नवजात के लिए जीवनदायी

0
11

जयपुर । कम वजन अथवा समय पूर्व जन्मे नवजात शिशुओं के लिए जिला अस्पतालों में संचालित एसएनसीयू जीवनदायिनी केन्द्र के रूप में स्थापित हो रहे हैं। हजारों नवजात शिशुओं को इनकी सेवाएं निशुल्क उपलब्ध हो रही हैं।

इसका एक उदाहरण है धौलपुर निवासी ब्रजेश शर्मा व विद्यावती की नवजात बिटिया की जीवन रक्षा की कहानी।
बिटिया जन्म के समय बहुत ही गंभीर संक्रमण की स्थिति में थी। बच्ची आगरा के एक निजी अस्पताल में 10 अप्रेल को जन्मी और 6 दिन तक वहां की नवजात शिशु की विशेष ईकाई में भर्ती रही। उसका जन्म के समय वजन मात्र 830 ग्राम था और संक्रमण तेजी से बढ़ने से जीवन-मौत के बीच संघर्षरत थी। निजी चिकित्सकों ने उसे उच्च चिकित्सा संस्थान के लिये रैफर कर दिया।

पिता ब्रजेश अपनी नवजात बिटिया को 16 अप्रेल 2018 को धौलपुर लाकर जिला अस्पताल के एसएनसीयू ले गये जहां प्रभारी डा. विजय की देखरेख में उपचार प्रारंभ हुआ। डा. विजय ने बताया कि बेबीएसएनसीयू में भर्ती के समय बहुत गंभीर स्थिति में थी कम वजन होने के साथ ही उसे हाईपोथर्मिया, हाईपोग्लेसिया, हाईपोकैल्सिमा के साथ खून की कमी थी। साथ ही वह दूध भी नहीं पी पा रही थी। इसके बाद एसएनसीयू में बेटी की इंटेसिव केयर के साथ सभी आवश्यक दवाईयां देते हुये उपचार शुरू किया गया। लगातार 56 दिन के इलाज के दौरान उसे आवश्यकता पड़ने पर दो बार ब्लड भी चढ़ाया गया। जिला अस्पताल में वंचित बच्चों को मां का दूध उपलब्ध कराने के लिये संचालित आंचल मदर मिल्क बैंक से ‘मां‘ के दूध की व्यवस्था कर चम्मच से बेबी को धीरे-धीरे दूध पिलवाना शुरू किया। उन्होंने बताया कि 10 जून 2018 को डिस्चार्ज के दौरान बिटिया का वजन बढ़कर 1.290 किलोग्राम था और उसने चम्मच से दूध भी पीना शुरू कर दिया था।

डिस्चार्ज के बाद चिकित्सा टीम ने लगातार घर जाकर लगातार फोलोअप किया और निरंतर देखरेख से उसकी सेहत में सुधार आया। आज बेबी का वजन बढ़कर 1.750 किलोग्राम हो गया है और चिकित्सकों के अनुसार वह सामान्य स्थिति में है।
———