विद्यालय भवन जीर्ण शीर्ण, छात्र परेशान

0
4
फ़िरोज़ खान
बारां 26 जुलाई ।  शाहाबाद ब्लॉक के शुभघरा ग्राम पंचायत  के हरियानगर गांव में राजकीय प्राथमिक विद्यालय में दो अध्यापक तैनात हैं ।  विद्यालय में एक कमरा व बरामदा तथा रसोई है । जिसमें करीब 40 बालक बालिकायें अध्यनरत  हैं। ग्रामवासियों ने बताया कि विद्यालय जीर्ण शीर्ण अवस्था मे है । क्षेत्र में लगातार हो रही है ,बारिश से भवन टपक रहे है । विद्यालय भवन की छतों  की पट्टियां टूटी हुई है । विद्यालय में छात्रों को बैठने के लिए जगह  नहीं है । ग्रामवासियों ने बताया कि अधिकारियों को कई बार अवगत करा दिया । उसके बाद भी अभी तक भवन की मरम्मत नही हुई है । इस विद्यालय में जाने के लिए बच्चों को एक नाला व एक नदी पार कर जाना पड़ता है । बारिश
में गांव की हालत बहुत ही खराब हो जाती है ।  हरिनगर गांव से लेकर नेशनल हाईवे तक ग्रेवल रोड भी नहीं है। जबकि एक नदी एक नाला पड़ता है । नदी का बहाव तेज रहता है । इस कारण यह नदी बच्चों के लिए हमेशा खतरा बना बनी रहती है। बरसात में नदी में पानी आ जाने के कारण बच्चों को जो हनोतिया देवरी पढ़ने जाते हैं । उनके लिए नदी में सामूहिक ग्रामीणों द्वारा छोड़ने जाना पड़ता है। पेड़ से रस्सी बांधकर एक दूसरे का हाथ पकड़कर बच्चों को छोड़ा जाता है।ऐसी मुश्किलों में रहकर बच्चे अपनी पढ़ाई पूरी कर रहे हैं ।
ग्रामवासियों ने बताया कि हमने प्रशासन एवं जनप्रतिनिधियों को कई बार इस बार इस समस्या से अवगत करवा दिया गया है।लेकिन फिर भी वह स्थिति जस की तस है एक तरफ सरकार शिक्षा के प्रति गंभीर नजर आ रही है तरह तरह के वादे करती है अरबों खरबों रुपए  विज्ञापन पर खर्च कर रही है लेकिन धरातल पर स्थिति दयनीय है। गांव में मजदूर वर्ग के लोग रहते हैं। गांव से नेशनल हाईवे 27 पर जाने वाला रास्ता में आने जाने में बहुत परेशान होना पड़ता है । रास्ते मे कीचड़ होने के कारण जूते पहनकर नही जा सकते है । लोगो को  पैदल ही जूतों को हाथ में लेकर जाना पड़ता है।
बरसात में नदी में अधिक पानी आ जाने कारण रास्ता बंद हो जाने से आवाजाही नहीं हो पाती।पूर्ण तरह से गाँव टापू बन जाता है। जिससे ग्रामीणों भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐसे में कई बार लोग दुर्घटनाग्रस्त भी हुए हैं बच्चे भी गिरे हैं और वापस रास्ते में से लौटकर घर आना पड़ता है । ग्राम के हरिचरण माली रघवीर माली जगना माली जगदीश माली समस्त ग्रामवासियों ने जिला कलेक्टर से मांग कि है की हमारी परेशानी को देखते हुए तुरंत कार्यवाही कर विद्यालय में कमरे बनवाई जावे  रास्ता अवरुद्ध करने वाली नदी पर  पुल बनाया जावे  एवं  हरिया नगर गांव से लेकर नेशनल हाईवे 27 तक डामरीकरण रोड बनाया जावे ।