फर्जी संगठन ने करवाये जार के चुनाव, होगी कानूनी कार्रवाई

0

जर्नलिस्ट एसोसियेशन आॅफ राजस्थान (जार) का दुरूपयोग करने पर कानूनी कार्रवाई होगी
जयपुर में हुए चुनाव फर्जी करार, संविधान की धज्जियां उडाने वालों को बख्शा नहीं जायेगा

जयपुर – जर्नलिस्ट एसोसियेशन आॅफ राजस्थान (जार) जयपुर के नाम को दुरूपयोग कर कतिपय पत्रकारों के समूह ने स्वार्थवश फर्जी तरीके से संगठन के संविधान के विपरित कार्यवाही करते हुए कथित रूप से संगठन के चुनाव कराने का दावा किया है जबकि जर्नलिस्ट एसोसियेशन आॅफ राजस्थान (जार) नहीं हुए है। जर्नलिस्ट एसोसियेशन आॅफ राजस्थान (जार) की दो दिन पूर्व टोंक में हुई प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में चुनाव कराने का विचार विमर्श कर वरिष्ठ पत्रकार राजेंद्र जी बोड़ा को चुनाव अधिकारी नियुक्त किया गया है जिनके द्वारा चुनाव कार्यक्रम घोषित ही अब किया जायेगा।
जयपुर में बुधवार को कथित रूप से 4 लोगों ने मिलकर फर्जी चुनाव करवा लिये है। उनको ना तो संगठन के संविधान का ज्ञान है और ना संघठन की समझ। उनका केवल मकसद पत्रकारों के महत्वपूर्ण संघठन जार पर सिर्फ स्वयं के स्वार्थ के लिए कब्जा करने की नीयत है। इसलिए तो जार जैसे संगठन जिसका अपना संविधान बना हुआ है और श्रम विभाग में पंजीकृत संस्था होने से अपनी स्वतंत्र इकाई है। इसका किसी भी अन्य संगठन से लेना देना नहीं है। इन कतिपय लोगों ने जार के चुनाव कराने का फर्जी पत्र नई दिल्ली के एक अन्य संगठन से जारी कराकर आनन फानन में 24 घंटे में चुनाव करा दिये जिसका उनको कोई अधिकार नहीं है।

इस फर्जी तरीके से कराये गये चुनाव में जिस एनयूजेआई का जिक्र है वो ही फर्जी है क्योंकि सही एनयूजेआई वो है जिसके जयपुर के हमारे वरिष्ठ नेता गुलाब बत्रा चुनाव आयुक्त है। जिसके हमारे वरिष्ठ नेता राजेन्द्र बोड़ा जी एनयूजेआई स्कूल ऑफ जर्नलिस्ट के निर्देशक है जिसके हमारे साथी प्रताप राव निदेशक है।

चुनाव में उल्लेखित फर्जी संगठन की कार्यकारिणी बैठक विगत दिनों चंडीगढ़ हुई थी जिसमें जार के निस्कासित उपाध्यक्ष घनश्याम बागी, निष्कासित सचिव अजय नागर, जिला अध्यक्ष जेके वैष्णव गए थे और काफी धमाचैकड़ी करने के बाद भी उनकी दाल नही गली और कोई पद नही मिला।
पंजीकृत जार संगठन के प्रदेश अध्यक्ष नीरज गुप्ता, प्रदेश महासचिव राधारमण शर्मा ने कहा कि प्रदेश के पत्रकारों को ऐसे फर्जी पत्रकारों व उनके फर्जी संगठन से सावचेत रहना होगा क्यों कि इनका मकसद केवल फूट डालो राजकरना ही है मकसद है। जिसमें वो कभी भी सफल नहीं हो सकेगें। उन्होंने जार के पत्रकारों से अपील की है कि वो अपने स्तर पर ऐसे फर्जी संगठनों का खंडन करें तथा उनके नाम का भी उनके द्वारा जो उपयोग किया जा रहा है उस संबंध में अपने स्तर पर विधिक कार्रवाई अमल में लावें। जार प्रदेश स्तर पर इन फर्जी लोगों व जार के नाम का दुरूप्योग करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई प्रांरभ कर चुका है। संगठन के खिलाफ काम करने वालों के खिलाफ पहले ही अनुशासनात्मक कार्रवाई अमल में लायी जा चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here