खाद के लिए कम नहीं हो रही मशक्कत

0
2

गीतांजलिपोस्ट
करौली . सपोटरा उपखण्ड मुख्यालय पर खाद की किल्लत के चलते किसान परेशान हैं। किसानों का कहना है कि दुकानदार दोगुनी राशि वसूल रहे हैं। मुंहमांगी रकम देने के बाद भी खाद नहीं मिल रही है। दुकानों के चक्कर काटने पड़ रहे हैं। पर्याप्त खाद नहीं मिलने से फसल को नुकसान पहुंचने का अंदेशा है।
किसानों का आरोप है कि प्रशासन की उदासीनता व दुकानदारों की मनमानी के कारण परेशान होना पड़ रहा है।

सिंचाई के समय जरूरत
इस समय फसल में सिंचाई का दौर चल रहा है। ऐसे में यूरिया की जरूरत पड़ रही है। सिंचाई के समय यूरिया डालना पड़ता है।यूरिया के अभाव में सिंचाई भी नहीं हो पा रही है। जिससे फसल चौपट होने का अंदेशा है।क्षेत्र के किसान ४५ किलो यूरिया के कट्टे का २६६ रुपए के स्थान पर ४०० से ५०० रुपए तक देने पड़ रहे हैं।

प्रशासन के आदेशों की अवहेलना
किसानों की समस्याओं को लेकर जिला कलक्टर ने खाद विक्रेताओं के गोदामों व दुकानों की जांच के आदेश दिए थे, लेकिन नियमित रूप से दुकानों की जांच नहीं की जा रही है। कृषि विभाग के अधिकारी भी उदासीन बने हुए हैं। किसानों तहसील के उपखण्ड अधिकारी, तहसीलदार को अवगत कराया था कुछ दुकानदार खाद की कालाबाजारी कर रहे हैं। लेकिन विभाग इन पर निगरानी नहीं रख रहा है। जिससे किसानों में रोष है। सपोटरा क्षेत्र के किसान राजेन्द्र मीना, अजय पाकड, श्रीलाल ने बताया कि पर्याप्त खाद नहीं मिलने से परेशानी हो रही है।