कांग्रेस ने मनाई नेताजी सुभाशचंद्र बोस की 122 वीं जयंती

0
11
बारां 23 जनवरी। जिला कांग्रेस कमेटी के श्रीजी चैक स्थित जिला कार्यालय पर कांग्रेसजनों द्वारा सोमवार को नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती मनाते हुए उन्हें श्रद्वा के साथ याद किया।
कांग्रेस जिला संगठन महासचिव कैलाश जैन ने बताया कि नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती अवसर पर जिला कांग्रेस कार्यालय पर कांग्रेसजनों द्वारा नेताजी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करते हुए विचार गोष्टी का आयोजन किया गया।
विचार गोष्टी को संबोधित करते हुए जिला संगठन महामंत्री कैलाश जैन ने कहा कि नेताजी सुभाषचंद्र बोस का जन्म आज ही के दिन 23 जनवरी 1897 को उड़ीसा में कटक के एक सम्पन्न बंगाली परिवार में हुआ था। बोस के पिता का नाम  जानकीनाथ बोस और मां का नाम प्रभावती था। जानकीनाथ बोस कटक शहर के मशहूर वकील थे। प्रभावती और जानकीनाथ बोस की कुल 14 संतानें थी, जिसमें 6 बेटियां और 8 बेटे थे। अंग्रेजी शासनकाल में भारतीयों के लिए सिविल सर्विस में जाना बहुत कठित था किंतु नेताजी ने सिविल सर्विस की परीक्षा में चैथा स्थान प्राप्त किया। जैन ने कहा कि बोस का मानना था कि अंग्रेजों के दुश्मनों से मिलकर आजादी हासिल की जा सकती है। उनके विचारों को देखते हुए उन्हें ब्रिटिश सरकार ने कोलकाता में नजरबंद कर लिया लेकिन वह अपने भतीजे शिशिर कुमार बोस की सहायता से वहां से भाग निकले। वह अफगानिस्तान और सोवियत संघ होते हुए जर्मनी जा पहुंचे।
विचार गोष्टी को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष सेवादल अशरफ देशवाली ने कहा कि नेताजी के नाम से प्रसिद्व सुभाषचन्द्र बोस ने सशक्त क्रांति द्वारा भारत को स्वतंत्र कराने के उद्वेश्य से 21 अक्टूबर 1943 को आजाद हिंद सरकार की स्थापना की तथा आजाद हिंद फौज का गठन किया। इस संगठन के प्रतीक चिन्ह पर एक झंडे पर दहाडते हुए बाघ का चित्र बना होता था। नेताजी अपनी आजाद हिंद फौज के साथ 4 जुलाई 1944 को बर्मा पहुंचे। यहीं पर उन्होनें अपना प्रसिद्व नारा तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा, दिया। 18 अगस्त 1945 को टोक्यो जाते समय ताइवान के पास नेताजी का एक हवाई दुर्घटना में निधन होना बताया जाता है लेकिन उनका शव नहीं मिल पाया। नेताजी की मौत के कारणों पर आज भी विवाद बना हुआ है।
सुभाषचंद्र बोस की जयंती कार्यक्रम में पूर्व सभापति कैलाश पारस, राजेन्द्र भूमल्या, प्रदेश सचिव सेवादल जगदीश पांचाल, इंटक प्रदेश अध्यक्ष योगेन्द्र बैरवा, नगर अध्यक्ष धर्मचंद जैन जिला महामंत्री जाकिर मंसूरी, प्रदेश कोर्डिनेटर अल्पसंख्यक नासिर मिर्जा, पार्षद नियाज मोहम्मद, राहुल शर्मा, गौरव शर्मा, शिवशंकर यादव, हरिराज गुर्जर, विष्णु शाक्यवाल सहित कई कांग्रेसजनों ने भाग लिया।