बांसवाड़ा लोकसभा सीट बनी सिरदर्द भाजपा कांग्रेस के लिए

0
125

गीतांजलि पोस्ट …

राजस्थान बांसवाड़ा लोकसभा चुनाव मे अपना उम्मीदवार जिताने के लिए बांसवाड़ा सीट पर जयपुर से दिल्ली तक के नेताओं की नजर बांसवाड़ा सीट पर टिकी हुयी है खास इसलिए भी है यहां पर बीटीपी के उम्मीदवार को मैदान मे होने की वजह से त्रिकोणीय मुकाबला है बांसवाड़ा डूंगरपुर लोकसभा सीट पर जयपुर दिल्ली तक के नेताओं की नजर वागड़ की बांसवाड़ा सीट पर लगी हुई है बांसवाड़ा डूंगरपुर लोकसभा क्षेत्र मे कुल मतदाता उन्नीस लाख एकसहठ हजार छसो सयासि है इसमें से सीत्तर प्रतिशत मतदान आदिवासि है बीस प्रतिशत मतदान ऐसी ओबीसी व पिछड़ावर्ग के है शेष रहे मतदान स्वर्ण समाज के आते है यह सीट इसलिए भी सबकी निगाहों मे है यहां का आदिवासी वोटर चंद लालस मे बिक जाया करता है पर भारतीय ट्राईबल पार्टी के मैदान मे होने से मुकाबला और भी रोचक हो चूका है भारतीय ट्राईबल पार्टी ने यहां के आदिवासी समाज मे जड़े मजबूत कर दी है भारतीय ट्रांईबल पार्टी की यूनिट भील ऑटोनोमीस कोनसील एंड आदिवासी परिवार नामक संगठन ने विगत चार सालो से उदयपुर संभाग मे जनजागरण कर आदिवासी समाज को कांग्रेस भाजपा से दूर करने का कार्य किया उसी की बदौलत डूंगरपुर जिले की दो विधानसभा सीट से विधायक चुनकर विधानसभा मे भेज चुकी है भारतीय ट्राईबल पार्टी बीटीपी ने हाल ही मे अपना चुनावी घोषणा पत्र भी जारी किया है जिसमे स्थानीय मुद्दों को ही तवज्जो दी गयी है जिसमे जल जगल जमीन यह उनका प्रमुख मुद्दा है साथ ही बांसवाड़ा मे परमाणु बिजलीघर बनने से रोकना उनका प्रमुख मुद्दा है उसकी जगह पहाड़ीयों पर सोर ऊर्जा से संचालीत बिजली उत्पन्न करवाना शामिल है साथ ही बीटीपी के घोषणा पत्र मे एसी ओबीसी को ट्राईबल एडवांईजरी कमेटी से प्रस्ताव पास करवा कर विशेष पैकेज दिलवाना भी प्रमुख मुद्दा है अब इसी टेंशन को दूर करने के लिए कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन मे 23 अप्रैल को आदिवासी तीर्थ स्थल बेनेश्वर पर सभा को सम्बोधित करेंगे यह जगह इसलिए भी खास है इस तीर्थ स्थल से आदिवासीयों का खासा लगाव भी है साथ ही यह स्थल बांसवाड़ा डूंगरपुर जिले की सीमा पर भी है इसी का फायदा देखते हुए कांग्रेस ने यह स्थान तय किया है इसी के जवाब मे भाजपा की स्टार प्रचारक स्मृति ईरानी भी भाजपा प्रत्याशी के समर्थन मे 25 अप्रेल को बांसवाड़ा के कुशलबाग मैदान मे सभा को सम्बोधित करेगी फिलहाल स्मृति का कार्यक्रम फ़ाइनल नहीं हुआ है सूत्रों की माने तो स्मृति को इसलिए बांसवाड़ा बुलाया जायेगा क्योंकि राहुल गाँधी के सामने भाजपा से स्मृति ईरानी भी अमेठी से चुनाव मैदान मे है अब देखना यह है की यहां का वोटर किसका साथ देता है अबकी बार गणित शहरी क्षेत्रों के झुकाव की और है शहरी वोटर जिधर गुमेगे उसकी जीत निश्चित मानी जाएगी वैसे बीटीपी का जनाधार बांसवाड़ा जिले मे उतना नहीं है जितना डूंगरपुर जिले मे है इसी को देखते हुए भाजपा कांग्रेस की नजरें बांसवाड़ा के वोटर की और झुकी हुयी है अब देखना यही है की यहां का वोटर क्या गुल खिलाता है

बांसवाड़ा हितेश गरासिया