सूझ बुझ से ही रोका जा सकता है बाल विवाह – कुमार पाल गौतम

0
97

गीतांजलि पोस्ट@श्रेयांस……बीकानेर।  बाल विवाह रथ रवाना व स्लोगन लिखे पतंग से संदेश प्रसारित, बीकानेर कलेक्ट्रेट परिसर में उरमूल ट्रस्ट व महिला एवं बाल विकास विभाग के सँयुक्त तत्वावधान में बाल विवाह मुक्त राजस्थान के तहत ग्रामीण इलाकों में नुक्कड़ नाटक, कठपुतली से सन्देश देते वाहन को जिला कलेक्टर कुमार पाल गौतम, महिला एवं बाल विकास विभाग उपनिदेशक शारदा चौधरी, अरविंद ओझा, रामेश्वर लाल गौदारा, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पीएलवी श्रेयांस बैद, कार्यक्रम समन्वयक पुखराज, पीराराम, ने हरी झंडी दिखाकर रथ को रवाना किया। रथ ग्राम स्तर पर जाकर बाल विवाह रोकथाम व उससे होंने वाले नुकसान से आम जन को जागरूक करेगा । ईस दौरान बाल विकास विभाग के द्वारा पतंगों पर सन्देश लिखे स्लोगन का भी जिला कलेक्टर व शारदा चौधरी ने शुभारम्भ किया व मतदान के लिए भी प्रेरित किया ।कार्यक्रम में उपस्थित ग्रामीणों ने भी जल ही जीवन है, व्रक्ष लगा कर करो श्रृंगार धरती की यही पुकार सबंधी स्लोगन लिखे पंतग हाथ मे ले रखे थे। ईस दौरान जिला कलेक्टर कुमार पाल गौतम ने कहा कि आगामी समय महत्वपूर्ण है मतदान के साथ ही अबूझ सावा भी है पहले मतदान करें व सावे के दौरान बाल विवाह को रोकने की जागरूकता भी रखें । उपस्थित ग्रामीणों ने कहा कि सरकार के प्रयासों से बाल विवाह के प्रति आम जन में चेतना आयी है।