सांभर झील पक्षी त्रासदी, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पुनिया ने किया सांभर झील का दौरा

0
40

गीतांजलि पोस्ट………(विनय शर्मा) सांभर लेक:- सांभर झील जो देशी विदेशी पक्षियों के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है, परंतु इस झील में पिछले कुछ दिनों से इस झील में हजारों पक्षियों की मौत होने से सांभर झील पक्षियों के लिए कब्रगाह साबित हो रही हैं। जानकारी के अनुसार अब तक करीब 25 हजार पक्षियों की मौत हो चुकी है और अभी भी पक्षियों के मरने का सिलसिला रुकने के नाम नहीं ले रहा हैं। झील में पक्षियों के बेदर्दी से मौत होने के बाद आज भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पुनिया, राजपाल सिंह शेखावत और स्थानीय विधायक निर्मल कुमावत ने झील क्षेत्र का दौरा किया और पक्षियों की मौत के बारे में जानकारी ली। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष पुनिया ने झपोक डैम, रतनतालाब और शाकंभरी माता के क्षेत्र में दौरा करते हुए पक्षियों के बारे में जानकारी ली।
पत्रकारों से बात करते हुए पुनिया ने बताया कि देश की सबसे बड़ी पक्षी त्रासदी होने के बाद भी सांभर झील में पक्षियों को बचाने के पुख्ता इंतजाम नहीं हैं। इसके साथ ही पुनिया ने कहा कि झील का संरक्षण भी होना चहिये। इसके साथ ही पुनिया ने रतनतालब पर बनाये गए अस्थाई रेस्क्यू सेंटर पर पक्षियों के ईलाज के बारे में वन अधिकारीयों से जानकारी ली।

 

ज्ञातव्य है कि सांभर झील में पक्षी त्रासदी के बाद कई पक्षी विशेषज्ञों की टीम, अनेकों डॉक्टरों की टीम, वन विभाग की टीमों के साथ साथ अनेकों विभागों से टीमें यहां आ रही हैं और झील से मृत पक्षियों और पानी के सेम्पल ले रही हैं।सांभर झील में हजारों की तादाद में विदेशी पक्षियों की मौत के बाद राजस्थान सरकार के साथ केंद्र सरकार भी एक्टिव मोड़ पर आ गई। गत दिवस भारत सरकार द्वारा भेजी गई डॉक्टर्स व साइंटिस्ट की स्पेशल टीम ने झील क्षेत्र का दौरा कर पानी व मिट्टी के सैंपल लिये, साथ ही वन विभाग द्वारा चलाए जा रहे अस्थाई रेस्क्यू सेंटर पर बीमार पक्षियों के ब्लड  व बीट के सैंपल जुटाए,  सैंपल की जांच के बाद ही पक्षियों के मरने के कारणों का पता लग पाएगा।

साइंटिस्टों की टीम में भोपाल से डाक्टर मनोज व आईवीआरआई बरेली से डाक्टर अशोक थे। WTI  से डा.दिशा, डा.भार्गवी व डा. अशरफ ने  भी मौके से सैंपल लिए।

 

इससे पूर्व जयपुर से आई पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड की 5 सदस्यो की टीम ने झील में किसी प्रकार का प्रदूषण की संभावना तलाशने के लिए झील क्षेत्र का दौरा किया,

पोलूशन कंट्रोल बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी (जयपुर उत्तर ) महेश शर्मा ने टीम का नेतृत्व किया। रेस्क्यू सेंटर पर डब्ल्यू सी ओ संस्था फुलेरा के ओम प्रकाश सेन दिनेश यादव सहित 6 लोगों की टीम  बराबर रोगी पक्षियों के निदान में जुटी है इस संस्था के सहयोग से सैकड़ों पक्षियों की जान बच पाई है जयपुर की पक्षी प्रेमी अनेक संस्थाएं भी निरंतर झील व रेस्क्यू सेंटर पर पक्षियों को बचाने में अपना सहयोग दे रहे हैं।