कृषि विज्ञान केंद्र में पोषण दिवस कार्यक्रम आयोजित

0
53

गीतांजलि पोस्ट……. (श्रेयांस )लूणकरणसर :- कस्बे में कृषि विज्ञान केंद्र मे पोषण दिवस कार्यक्रम का आयोजन गुरुवार को हुआ।
कार्यक्रम का शुभारंभ केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डॉ आर के शिवरान द्वारा किया गया। डॉक्टर शिवराज ने बताया कि गुरुवार को पोषण दिवस कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें 40 आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और 52 महिला कृषक सहित 104 प्रतिभागियों ने भाग लिया। प्रशिक्षणार्थियों को कृषि विज्ञान केंद्र में की जाने वाली विभिन्न गतिविधियों से अवगत करवाया तथा आहार में पोषण की महत्ता पर भी प्रकाश डाला गया। खाद एवं पोषण विभाग की विषय विशेषज्ञ डॉ ऋचा पंत ने संतुलित आहार में फल सब्जियों की महत्ता एवं पोषण वाटिका प्रबंध विषय पर विस्तृत जानकारी दी।उन्होंने बताया की एक आदर्श पोषण थाली में 50% भाग फल व सब्जियां होनी चाहिए साथ ही प्रत्येक व्यस्क व्यक्ति को प्रतिदिन तीन सौ ग्राम सब्जियां में सौ ग्राम फल अवश्य लेना चाहिए साथ साथ डॉ ऋचा पंत ने महिलाओं को पोषण वाटिका लगाने का तरीका,वाटिका का स्वरूप और फसल चक्र के बारे में भी जानकारी दी। बागवानी फसलों के विषय विशेषज्ञ डॉ नवल किशोर ने सब्जियों में नर्सरी प्रबंधन के बारे में विस्तृत से बताया,उन्होंने प्रो-ट्रेज का प्रयोग कर पौध तैयार करने के बारे में भी बताया जिसमें कोकोपीट और केंचुआ खाद का प्रयोग कर सब्जी की अच्छी गुणवत्ता की पौध तैयार की जा सकती है और इस प्रकार किसान और महिला कृषक बेहतर आमदनी भी कर सकते हैं। मृदा वैज्ञानिक विशेषज्ञ डॉ भगवतसिंह ने जैविक खाद और बायोफर्टिलाइजर के प्रयोग पर प्रकाश डाला और बताया कि घर के जैविक कचरे से किस प्रकार कंपोस्ट खाद और केंचुआ खाद बनाई जा सकती है। कीट विज्ञान विभाग के विशेषज्ञ डॉ केशव मेहरा ने पोषण वाटिका में कीट प्रबंधन के जैविक तरीकों के बारे में जानकारी दी तथा रासायनिक कीटनाशकों का प्रयोग नहीं करते हुए नीम,आक,धतूरा आदि के प्रयोग से बेहतर उत्पाद तकनीकों के बारे में विस्तार से बताया। कार्यक्रम के अंत में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद एवं इसको के संयुक्त सौजन्य से रबी सब्जियों के बीज का वितरण किया गया। कार्यक्रम में कृषि विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ आरके शिवरान,डॉ नवल किशोर,अधिवक्ता रामलाल गोदारा,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संकल्प सिद्धि नव भारत निर्माण महाभियान के संभाग संयोजक श्रेयांस बैद शामिल रहे। कार्यक्रम का संचालन मर्दा विशेषज्ञ भगवत सिंह ने किया तथा डॉ ऋचा पंत ने कार्यक्रम में पधारे सभी प्रशिक्षणार्थियों को का धन्यवाद ज्ञापित किया।